मुख्यमंत्री से सरगुजा के पंच-सरपंचों की सौजन्य मुलाकात

पंचायत प्रतिनिधि अधिक से अधिक लोगों को जनकल्याणकारी योजनाओं से जोड़ें: डॉ. रमन सिंह

हमर छत्तीसगढ़ योजना: अब तक 84 हजार से ज्यादा पंचायत-सहकारिता प्रतिनिधियों ने किया राजधानी रायपुर का भ्रमण

9 अगस्त 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह  से आज शाम राजधानी रायपुर स्थित उनके निवास परिसर में सरगुजा संभाग के विभिन्न जिलों के पंच-सरपंचों ने सौजन्य मुलाकात की। ये पंच-सरपंच राज्य सरकार की हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत रायपुर और नया रायपुर के अध्ययन दौरे पर आए हैं। मुख्यमंत्री ने उन्हें सम्बोधित करते हुए कहा कि गांवों के विकास में पंच-सरपंचों की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों से शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं में जनभागीदारी के लिए अधिक से अधिक संख्या में लोगों को जोड़ने का आव्हान किया। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि मैदानी स्तर पर राज्य और केन्द्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन की महत्वपूर्ण जवाबदेही त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों की है। जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र मे प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ भारत अभियान, हरियर छत्तीसगढ़ योजना, अंागनबाड़ियों मे बच्चों के टीकाकरण, सार्वजनिक वितरण प्रणाली के राशन की समुचित व्यवस्था, स्कूलों में मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम आदि योजनाओं का बेहतर ढ़ग से क्रियान्वयन करने में सक्रिय भूमिका निभायें। गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, संसदीय सचिव श्री शिवशंकर पैकरा और पूर्व संसदीय सचिव श्री सिद्धनाथ पैकरा भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

डॉ. रमन सिंह ने इस अवसर पर कहा कि गांवों में निर्माण कार्य कराना ही पंचायत प्रतिनिधियों का काम नहीं है। उनका यह प्रयास भी होना चाहिए कि गांवों का वातावरण स्वच्छ और साफ-सुथरा हो। गांवों में लोगों को नशे की आदत से छुटकारा दिलाने के प्रयास होने चाहिए। उन्होंने कहा कि गावों में होने वाले निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर विशेष रुप से ध्यान देने की जरुरत है। यदि आप अच्छा काम करेंगे, तो आने वाले समय में आप मंत्री और विधायक भी बन सकते हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के पीछे यह भाव है कि हमारे पंचायत प्रतिनिधि राजधानी रायपुर और छत्तीसगढ़ के बारे में जाने। एक ही स्थान पर उन्हें सभी योजनाओं की जानकारी मिले, छत्तीसगढ़ के तेजी से हो रहे विकास को उन्हें देखने और समझने का मौका मिले और वे विकास के प्रति एक प्रगतिशील सोच के साथ अपने क्षेत्र में जाकर विकास कार्यों को मूर्त रुप प्रदान करें। अपनी गांव की मिट्टी, पानी और पौधो को पंचायत प्रतिनिधि नया रायपुर मे रोपें और राजधानी के साथ अपना जुड़ाव स्थापित करें। गृहमंत्री श्री रामसेवक पैकरा, संसदीय सचिव श्री शिवशंकर पैकरा और पूर्व संसदीय सचिव श्री सिद्धनाथ पैकरा ने भी इस अवसर पर पर अपने विचार प्रकट किए। उल्लेखनीय है कि आज सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर और जशपुर जिले के 567 पंचायत प्रतिनिधि रायपुर के भ्रमण पर आए है। अब तक इस योजना में 84 हजार 114 पंचायत और सहकारिता के प्रतिनिधि रायपुर के भ्रमण पर आए हैं। इनमें 78 हजार 199 पंचायत प्रतिनिधि और पाच हजार 915 सहकारिता प्रतिनिधि शामिल है। इन प्रतिनिधियों में 55 हजार 692 पुरुष और 28 हजार 422 महिलाएं हैं।

हिन्दी