मुख्यमंत्री फिल्म साहित्य महोत्सव जिफलिफ में

मुख्यमंत्री ने किया तीन दिवसीय फिल्म-साहित्य महोत्सव का शुभारंभ : मुख्यमंत्री ने किया ‘आमिर: ए सोशल स्पार्क’ पुस्तक का विमोचन
रायपुर, 05 जनवरी 2018 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज शाम यहां तीन दिवसीय भारतीय फिल्म एवं साहित्य महोत्सव जिफलिफ के रायपुर संस्करण 2018 का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि फिल्म और साहित्य क्षेत्र की बड़ी हस्तियां इस महोत्सव में शामिल हो रही हैं। आज की पीढ़ी को उन्हें सुनने, समझने और उनसे सीखने का अवसर मिलेगा। अपने हुनर से करोड़ों दिलों में जगह बनाने वाली हस्तियों को सुनना हम सबके लिए यादगार अनुभव होगा।

    उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में भी फिल्म और साहित्यिक गतिविधियां लगातार चलती रहती हैं। डॉ. सिंह ने छत्तीसगढ़ के सुप्रसिद्ध फिल्म निर्माता, निर्देशक, लेखक और अभिनेता स्वर्गीय श्री किशोर साहू, स्वर्गीय श्री हबीब तनवीर और सुप्रसिद्ध पण्डवानी गायिका पù विभूषण तीजन बाई को याद करते हुए कहा कि इन्होंने अपनी प्रतिभा और लगन से अपनी कला को नई ऊचाईयों तक पहुंचाने में सफलता पाई।
    उन्होंने साहित्य के क्षेत्र की हस्तियों श्री माधव राव सप्रे, पदमलाल पुन्नालाल बक्शी, गजानंद माधव मुक्तिबोध और साहित्यकार श्री विनोद कुमार शुक्ल का भी उल्लेख किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर डॉ. कीर्ति सिसोदिया की किताब ‘आमिर: ए सोशल स्पार्क’ का विमोचन किया। इस अवसर पर फिल्म जूरी के सदस्य पùश्री सम्मानित श्री ए.के. वीर, लेखक, गायक और अभिनेता श्री पीयूष मिश्रा, सी.वी. रमन विश्वविद्यालय के कुलपति श्री संतोष चौबे सहित श्री मनोज जॉनसन विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने निर्माण के बाद नये राज्य छत्तीसगढ़ ने विकसित राज्यों के बीच  अपनी पहचान बनाने में सफलता पाई है। ईश्वर ने छत्तीसगढ़ को अपने हाथों से गढ़ा है। यहां के साल-सागौन के जंगल और पहाड़, चित्रकूट जैसे जलप्रपात मनोहारी है। उन्होंने कहा कि जब बस्तर की चर्चा होती है, तो नक्सल समस्या की जगह बस्तर के अतुलनीय प्राकृतिक सौन्दर्य, वहां के ढोल और मांदर की थाप, बस्तर में हुए विकास की चर्चा होनी चाहिए। बस्तर में आज मेडिकल कॉलेज, स्टील प्लांट आ रहा है, विश्वविद्यालय प्रारंभ हो चुका है, एजुकेशन हब जैसे शिक्षण संस्थान काम कर रही हैं और प्रदेश के अन्य क्षेत्रों से अच्छी कनेक्टिविटी भी है। बस्तर के समृद्ध और घने जंगलों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां दिल्ली और मुम्बई से आने वाले विशेष पैकेज हैं। बस्तर में दो दिन गुजारेंगे तो वहां की ताजगी भरी हवाओं से महीनों का ऑक्सीजन मिल जाएगा। जिफलिफ का आयोजन रायपुर की जगह दंतेवाड़ा किया जाना चाहिए था।
    इस अवसर पर श्री संतोष चौबे, श्री मनोज जॉनसन, श्री पीयूष मिश्रा, श्री ए.के. वीर और श्री शिव दुबे ने भी अपने विचार प्रकट किए। डॉ. कीर्ति सिसोदिया ने अपनी पुस्तक ‘आमिर: ए सोशल स्पार्क के संबंध में कि यह पुस्तक अभिनेता की जीवनी पर नहीं, बल्कि फिल्मों जैसे प्रभावशाली माध्यम का उपयोग विभिन्न सामाजिक विषयों पर जनजागरूकता पैदा करने के संबंध में है। जिफलिफ के संस्थापक निदेशक श्री करण कुकरेजा ने अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया।

हिन्दी