बस्तर रेल्वे प्राईवेट कंपनी बना रही जगदलपुर रावघाट रेल्वे लाईन

बस्तर के सुदूर अंचल में घने जंगलों और पहाड़ों के बीच एक नई रेल लाइन आ रही है. इस रेल लाइन के आने से जगदलपुर और राजघाट के बीच आवागमन एकदम सुगम हो जाएगा रेल आवागमन.

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में जगदलपुर रावघाट रेल्वे लाईन निर्माण के लिए हुआ अनुबंध : इरकॉन करेगी 140 किलोमीटर रेल्वे लाईन का निर्माण

रायपुर, 19 जुलाई 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज शाम यहां उनके निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में बस्तर रेल्वे प्राइवेट लिमिटेड और इरकॉन कम्पनी के बीच अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए। इस अनुबंध के तहत जगदलपुर और रावघाट के मध्य इरकॉन कम्पनी द्वारा 140 किलोमीटर रेल्वे लाईन का निर्माण किया जाएगा, जिसमें तेरह स्टेशन होंगे। इस रेल कॉरीडोर प्रोजेक्ट की लागत लगभग 2538 करोड़ रूपए होगी।

अनुबंध पर बस्तर रेल्वे प्राईवेट लिमिटेड के चेयरमेन डॉ. टी.आर.के. राव और इरकॉन कंपनी के कार्यपालिक निदेशक श्री एस.एल. गुप्ता ने हस्ताक्षर किए। अधिकारियों ने बैठक में बताया कि इस रेल कारीडोर के प्रथम चरण के लिए भू-अर्जन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। वन भूमि व्यपवर्तन के प्रकरण इस माह के अंत तक तैयार हो कर लिए जाएंगे। इस कॉरीडोर में बस्तर और कोण्डागांव जिलों के अंतर्गत आने 101 किलोमीटर की प्रस्तावित जमीन का विवरण रेल मंत्रालय को राजपत्र में  प्रकाशन के लिए भेज दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने अनुबंध पर खुशी जाहिर करते हुए शुभकामनाएं दी। उन्होंने अधिकारियों को भू-अर्जन और वन भूमि के व्यपवर्तन की प्रक्रिया तीन माह के भीतर पूर्ण करने और निर्माण कार्य जनवरी 2018 तक शुरू करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर बस्तर रेल्वे प्राईवेट लिमिटेड के प्रतीक चिन्ह (लोगो) का विमोचन किया गया। कार्यक्रम में खनिज साधन विभाग के सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम की प्रबंध संचालक श्रीमती अलरमंगई डी, बस्तर रेल्वे प्राईवेट लिमिटेड के मुख्य कार्य पालन अधिकारी श्री वी.एस. प्रभाकर और भारतीय इस्पात प्राधिकरण (सेल) के अधिकारी भी उपस्थित थे।

हिन्दी