अग्नि दुर्घटना से बचाव नया रायपुर में

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने नया रायपुर में अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवा भवन का किया लोकार्पण

अग्नि दुर्घटना से बचाव में मददगार साबित होगा नियंत्रण कक्ष: डॉ. सिंह

रायपुर 05 मई 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज नया रायपुर स्थित सेक्टर 19 में नवनिर्मित नगर सेना, एसडीआरएफ, अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवाओं के प्रशासनिक भवन का लोकार्पण किया। उन्होंने वहां अग्निशमन नियंत्रण कक्ष और टोल -फ्री नम्बर 101 पर आधारित हेल्पलाइन का भी शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने इसके शुभारंभ पर बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि नगर सेना, राज्य आपदा योजना बल (एसडीआरएफ), अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवाओं के लिए एक अच्छा भवन उपलब्ध हो गया है। इसमें विभागीय काम-काज में आसानी होगी। इस केन्द्र से राज्य भर के जिलों में अग्निशमन संबंधी नियंत्रण रखा जा सकेगा। इस तरह अग्नि संबंधी दुर्घटनाओं और आपदा से तुरंत बचाव के लिए यहां केन्द्र महत्वपूर्ण साबित होगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने एसडीआरएफ तथा फायर फायटिंग टीम से मुलाकात की और वहां फायर फायटिंग उपकरणों का भी अवलोकन किया। इस अवसर पर गृह मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, संसदीय सचिव श्री लाभचंद बाफना, गृह विभाग के प्रमुख सचिव बी.व्ही.आर सुब्रमण्यम, नगर सेना एवं एसडीआरएफ, अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवाएं के निर्देशक श्री गिरिधारी नायक सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवा नियंत्रण कक्ष के कार्यो में टेलीफोन तथा वायरलेस सेट से दुर्घटना संबंधित सूचना प्राप्त करना और संबंधित जिला के फायर स्टेशनों को तुरंत काल ट्रांसफर करना है। इसके द्वारा राज्य के सभी जिलों के महत्वपूर्ण टेलीफोन नंबरों की जानकारी रखी जाएगी। दुर्घटना के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करना और उनके निर्देशों का पालन के लिए अधीनस्थ कर्मचारियों को सूचित करना है। दुर्घटना में घायल हुए व्यक्ति तथा उनके उपचार आदि संबंधी जानकारी भी रखी जाएगी। नियंत्रण कक्ष द्वारा सभी जिलों से प्रतिदिन सुबह सात बजे तक निर्धारित प्रपत्र में रिपोर्ट प्राप्त किया जाएगा। नियंत्रण कक्ष प्रभारी द्वारा प्रत्येक 15 दिवस में घटना की समीक्षा की जाएगी। 

अग्निशमन व्यवस्था के तहत इस महीने की पहली तारीख को रायपुर फायर स्टेशन को आधिपत्य में लेकर कक्ष से कार्य शुरू कर दिया गया है। इसी तरह 15 मई को बिलासपुर फायर स्टेशन और एक जून को दुर्ग फायर स्टेशन को आधिपत्य में लेकर कार्य प्रारंभ किया जाएगा। माह अगस्त में जगदलपुर, सितम्बर में राजनांदगांव, अक्टूबर में रायगढ़, नवम्बर में अम्बिकापुर, दिसम्बर में कोरबा, जनवरी में कबीरधाम और फरवरी में कोरिया फायर स्टेशन को आधिपत्य में लेकर कार्य प्रारंभ किया जाएगा। इसके तहत राजभवन, मुख्यमंत्री निवास, विधानसभा और उच्च न्यायालय में तैनात सुरक्षा कर्मियों में से छह कर्मचारियों को अग्निशमन व्यवस्था में प्रशिक्षित कर अग्निशमन उपकरणों के साथ तैनात किया जाएगा। जिससे वहां आवश्यकतानुसार अग्नि जनित घटनाओं में बचाव की त्वरित कार्रवाई की जा सके। 

हिन्दी