दुर्ग जिले में व्यपवर्तन और एनीकट निर्माण

व्यपवर्तन-जीर्णोध्दार और एनीकट के लिए 11.78 करोड़ रूपए मंजूर

रायपुर, 21 नवम्बर 2011 - राज्य शासन द्वारा छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में व्यपवर्तन-जीर्णोध्दार और एनीकट योजना के निर्माण के लिए कुल 11 करोड़ 78 लाख 55 हजार रूपए की प्रशासकीय मंजूरी दी गई है। इनके निर्माण से 225 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई और निस्तार तथा भू-जल संवर्धन की सुविधा मिलेगी। जल संसाधन विभाग द्वारा इस आशय का आदेश यहां मंत्रालय से जारी कर दिया गया है। विभागीय अधिकारियों ने आज यहां बताया कि दुर्ग जिले के साजा विकासखण्ड में सुरहीकर्रा व्यपवर्तन योजना के जीर्णोध्दार (रिमाडलिंग) के लिए आठ करोड़ 37 लाख 81 हजार रूपए और सुरही दनी पर कामकावाड़ा एनीकट सह काजवे योजना के निर्माण के लिए तीन करोड़ 40 लाख 74 हजार रूपए मंजूर किए गए हैं। इनमें व्यपवर्तन योजना से दो सौ हेक्टयर क्षेत्र में सिंचाई और एनीकट से निस्तार, भू-जल संवर्धन तथा किसानों को उनके स्वयं के साधन से 25 हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा मिलेगी।

टिप्पणियाँ

रायपुर, 29 जुलाई 2017 - राज्य सरकार के जल संसाधन विभाग द्वारा प्रदेश के पांच जिलोें- महासमुंद, कबीरधाम, राजनादगांव, दुर्ग और बीजापुर में एनीकट निर्माण के लिए कुल 12 करोड़ 50 लाख रूपए की स्वीकृति दी गयी है। इन एनीकटों से निस्तार, भू-जलसंवर्धन और किसानों को उनके स्वयं के साधन से 357 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिलेगी। इनमें महासमुंद जिले के पिथौरा विकासखण्ड में पंडरीपानी नाला पर खम्हन एनीकट के लिए तीन करोड़ 51 लाख 74 हजार रूपए, कबीरधाम जिले के बोड़ला विकासखण्ड में फेन नदी पर राजाढ़ार एनीकट के लिए तीन करोड़ 16 लाख 50 हजार रूपए और राजनादगांव जिले के मोहला विकासखण्ड में कोटरी नदी पर देवरसुर एनीकट के लिए दो करोड़ 26 लाख 34 हजार रूपए शामिल है। इसी तरह दुर्ग जिले के दुर्ग विकासखण्ड में समोदा नाला पर कचान्दुर एनीकट के लिए एक करोड़ 89 लाख 79 हजार रूपए और बीजापुर जिले के उसूर विकासखण्ड में चिंतावागु नदी पर मोदकपाल एनीकट के लिए एक करोड़ 64 लाख आठ हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति शामिल है।

साराडीह बैराज के लिए 640.20 करोड़ रूपए की पुनरीक्षित मंजूरी

राज्य सरकार द्वारा जांजगीर-चांपा जिले के डभरा विकासखण्ड में महानदी पर साराडीह बैराज योजना के निर्माण के लिए 640 करोड़ 20 लाख रूपए की पुनरीक्षित प्रशासकीय मंजूरी दी गयी है। यह योजना से निस्तार, भू-जल संवर्धन और औद्योगिक प्रयोजन के लिए प्रस्तावित है। जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने विभागीय अधिकारियों को स्वीकृत राशि के अंतर्गत निर्धारित समय में इस योजना को पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं।

अमाड़ व्यपवर्तन के लिए 49.48 करोड़ से ज्यादा राशि मंजूर

राज्य शासन ने गरियाबंद जिले के विकासखण्ड देवभोग में अमाड़ व्यपवर्तन योजना के निर्माण के लिए 49 करोड़ 48 लाख 80 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी है। इस योजना से सोलह सौ हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिलेगी। जल संसाधन विभाग द्वारा मंत्रालय (महानदी भवन) से स्वीकृति आदेश जारी कर दिया गया है।

हिन्दी