80 हजार विद्यार्थियों ने ऑन-लाइन लिया प्रवेश

रायपुर, 12  अप्रैल 2017 - उच्च शिक्षा में हो रहे आधुनिक परिवर्तनों को लक्ष्य रखकर राज्य के सभी सरकारी कॉलेजों में शिक्षा को उनके अनुरूप गतिशील बनाये रखने के लिए प्रतिबद्ध है। इस दिशा में सुनियोजित तरीके से रणनीति बनाते हुए शिक्षा गुणात्मक उन्नयन, ढॉचागत सुविधाओं के विस्तार तथा प्रदेश की समूची आबादी तक उच्च शिक्षा  पहुंचाने के लिए संकल्पबद्ध है। छत्तीसगढ़ राज्य में भारत के प्रधानमंत्री के ‘डिजिटल इंडिया’ कार्यक्रम के तहत शिक्षा सत्र 2016-17 में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा विशेष सॉफ्टवेयर ‘सेतु‘ ( स्टूडेंट इम्पॉवरमेंट थ्रू टेक्नालॉजी यूटलाइजेशन-सेतु) नाम से कार्यक्रम बनाया गया है। जिसके तहत सभी सरकारी कॉलेजों में प्रवेश-प्रक्रिया में सरलता एवं एकरूपता लाने का प्रयास किया गया है।

इस के तहत राज्य के सभी सरकारी कॉलेजों में 80 हजार से ज्यादा विद्यार्थियों ने ‘ऑन-लाइन‘ प्रवेश लिया। इसके साथ ही वर्तमान परम्परागत प्रक्रिया के अनुसार मेनुअल तरीके से भी छात्र-छात्राओं को भी दाखिले की सुविधा दी गई, जिसे बाद में ‘ऑन-लाइन‘ किया गया। इस तकनीक के उपयोग से प्रदेश के सभी सरकारी विश्वविद्यालय और कॉलेजों के बीच बेहतर संवाद की स्थिति निर्मित हुई। राज्य में एनएमईआईसीटी योजना के तहत 108 शासकीय महाविद्यालयों को ब्रॉडबैण्ड कनेक्टिविटी बीएसएनएल के माध्यम से प्रदान की गयी तथा चयनित सरकारी कॉलेजों में विद्यार्थियों के शिक्षा प्रक्रिया में आधुनिकतम तकनीक का सहजता से उपयोग के लिए निःशुल्क ‘वाई फाई‘ सुविधा प्रदान की गयी। प्रदेश के चौदह सरकारी स्नातक महाविद्यालयों को स्नातकोत्तर महाविद्यालय में उन्नयन किया गया है। अब प्रदेश के सभी जिलों में स्नातकोत्तर महाविद्यालय हो गए हैं।

हिन्दी