1 लाख वर्ग मीटर में लगाये गये नेट की जांच

बलरामपुर जिले में लगाये गये नेट की जांच करने कमिश्नर ने दिये निर्देश : आधा दर्जन से अधिक अधिकारियों को कारण बताओ नोटिश जारी

मैदानी अधिकारी गांवों का करें दौरा  

आयुक्त द्वारा जाँच और प्रशासनिक कार्यवाही

अम्बिकापुर 08 अप्रैल 2016 - सरगुजा संभाग के कमिष्नर श्री टी.सी. महावर ने बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में राजपुर से कुसमी तक गत वर्ष उद्यानिकी विभाग द्वारा 1 लाख वर्ग मीटर में लगाये गये नेट की जांच करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारी से कहा है कि वे हितग्राहियों का नाम और ग्रामवार सूची शीघ्र उपलब्ध करायें। इसके साथ ही कमिष्नर ने आधा दर्जन से अधिक अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। इनमें कोरिया जिले में कृषि विभाग द्वारा कृषि समग्र विकास सहित विभिन्न योजनाओं के लक्ष्य की पूर्ति नहीं करने पर उप संचालक कृषि की एक वेतन वृद्धि रोकने कारण बताओं सूचना जारी किया गया है। इसके साथ ही जशपुर जिले के उप संचालक कृषि को लक्ष्य की पूर्ति नही करने पर कारण बताओं सूचना और बैठक में अनुपस्थित रहने पर उप पंजीयक/सहायक पंजीयक सहकारी संस्थाएं अम्बिकापुर, कोरिया, जषपुर और बलरामपुर के नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारी तथा जिला मलेरिया अधिकारी जषपुर एवं कोरिया को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।
कमिष्नर श्री महावर ने बैठक में कृषि, उद्यानिकी, मत्सय पालन, पषु चिकित्सा, मण्डी बोर्ड द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं की जिलेवार विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कृषि एवं उद्यानिकी विभाग के जिला अधिकारियों से कहा है कि वे अपने अधिनस्थ ग्रामीण कृषि विकास विस्तार अधिकारियों और मैदानी अधिकारियों को सक्रिय करें तथा उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा कर शासन की विभिन्न विभागीय योजनाओं का लाभ जरूरत मंद किसानों को दिलवाना सुनिष्चित करें। उन्होंने कहा कि चेतना केन्द्रों में सेमीनार आयोजित करायें तथा क्षेत्र के प्रगति शील किसानों के खेतों का भी भ्रमण करायें। कमिष्नर ने कहा कि मैदानी अधिकारियों को अधिक जवाबदार बनायें ताकि शासन की विभिन्न योजनाओं का सही ढंग से क्रियान्वयन हो सके। उन्होंने कहा कि किसानों को योजनाओं का लाभ दिलाने के साथ ही समय-समय पर उन्हें आवष्यक मार्गदर्षन और समझाईष दिलाना भी सुनिष्चित करें।
कमिष्नर श्री महावर ने कृषि, उद्यानिकी, मतस्य पालन और पषुचिकित्सा विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे अपने विभाग की योजनाओं को कलस्टर में एकीकृत रूप से संचालित कर हितग्राहियों को लाभान्वित करें। उन्होंने कहा कि योजनाओं का बेहतर लाभ उठा सकने में सफल हुए किसानों का डाक्यूमेन्टेषन भी करायें तथा जिसमें हितग्राही का नाम व पता तथा उसे उपलब्ध कराई गई सहायता और उससे हुए लाभ की जानकारी हो। उन्होंने पषु चिकित्सा विभाग के अधिकारियों से कहा कि वे कृत्रिम गर्भाधान पर विषेष ध्यान देवें और इसके माध्यम से पषुओं का नस्ल सुधार करने की कार्यवाही करें। उन्होंने महिला स्व सहायता समूहों को मतस्य पालन को आय का अतिरिक्त जरिया बनाने पर प्रषन्नता व्यक्त की। कमिष्नर ने अधिकारियों से कहा कि यदि उनके क्षेत्र में कोई उल्लेखनीय कार्य किया गया है तो उसकी जानकारी उन्हें दें ताकि वे भी उन कार्यो का अवलोकन कर सकें।  
बैठक में संयुक्त संचालक कृषि श्री ए.बी. आसना, उपायुक्त राजस्व श्री सुधाकर खलखो और सरगुजा संभाग के सभी जिलों के कृषि, उद्यानिकी, मतस्य पालन तथा पषु चिकित्सा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।       

हिन्दी