स्वरोजगार

एक लाख रुपए का ऋण मिनी माता स्वावलम्बन योजना

छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जातियों के बेरोजगार युवाओं को स्वरोजगार के लिए छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम द्वारा संचालित मिनी माता स्वावलम्बन योजना के अंतर्गत एक लाख रुपए का ऋण प्रदान किया जा रहा है। प्रदेश के जांजगीर-चाम्पा जिले में मिनी माता स्वावलम्बन योजना के अंतर्गत अनुसूचित जातियों के 28 हितग्राहियों को स्वरोजगार के लिए कुल 15 लाख 64 हजार रूपए का ऋण उपलब्ध कराया गया है। छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम को इस योजना के लिए वित्तीय आवंटन अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

स्वरोजगार अपनाएं युवा - श्री मूणत

उद्योग राज्य मंत्री श्री राजेश मूणत ने आज यहां आयोजित कार्यक्रम 'स्वरोजगार 2008' में प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत 253 हितग्राहियों को लगभग दो करोड़ रूपए राशि के ऋण वितरित किए।

प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत 253 हितग्राहियों को दो करोड़ रूपए के ऋण वितरित

252 शिक्षित बेरोजगारों को 1.83 करोड़ से अधिक राशि मंजूर

प्रधानमंत्री रोजगार योजना के अंतर्गत कबीरधाम जिले में लक्ष्य से अधिक प्रकरण स्वीकृत किए गए हैं। इस योजना के अंतर्गत जिले में वित्तीय वर्ष 2007-08 में 250 शिक्षित बेरोजगारों को स्वरोजगार के लिए बैंकों के माध्यम से ऋण सहायता उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूध्द माह फरवरी 2008 तक शिक्षित बेरोजगारों के 252 ऋण प्रकरणों में विभिन्न बैंकों द्वारा एक करोड़ 83 लाख 12 हजार रूपए की राशि स्वीकृत की गई।