समर्थन मूल्य

91 प्रतिशत धान की मिलिंग पूर्ण

रायपुर, 09 अप्रैल 2016 - राज्य सरकार द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2015-16 में सहकारी समितियों में खरीदे गए कुल धान में से अब तक 54 लाख मीटरिक टन धान का मिलिंग किया जा चुका है। शेष धान को इस महीने की तीस तारीख तक मिलिंग करने का लक्ष्य है।

एक हजार रूपया समर्थन मूल्य

धान का समर्थन मूल्य भी गेहूं के बराबर एक हजार रूपए होना चाहिए : डॉ. रमन सिंह

Paddy support price should be Rs One Thousand, just like wheat
Chief minister of Chhattisgarh Dr Raman Singh once again raised voice to increase the minimum support procurement price of paddy to Rs one thousand per quintal just equivalent to wheat. Second thing he forced for is agriculture loan at four percent interest to farmers. He said center should seriously consider over these issues.

उत्तराखण्ड की पसंद छत्तीसगढ़ मॉडल

रायपुर, सार्वजनिक वितरण प्रणाली के छत्तीसगढ़ मॉडल की खूबियों ने उत्तराखण्ड को भी आकर्षित और प्रभावित किया है। उत्तराखण्ड सरकार ने दो अधिकारियों को छत्तीसगढ़ के अध्ययन दौरे पर भेजा। उत्तराखण्ड सरकार ने इस मॉडल को अपनाने की मंशा प्रकट करते हुए छत्तीसगढ़ में इस प्रणाली के तहत धान खरीदी व्यवस्था और राशन दुकानों के कामकाज कम्प्यूटरीकरण सहित इनमें पारदर्शिता के लिए विकसित की गई जनभागीदारी वेबसाईट और कॉल सेंटर की व्यवस्था की भी प्रशंसा की है।

समर्थन मूल्य पर 24.88 लाख मीटरिक टन धान

सर्वाधिक धान की आवक रायपुर जिले की समितियों में
राज्य में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के डेढ़ हजार से अधिक धान खरीदी केन्द्रों पर कल 13 जनवरी तक एक हजार 876 करोड़ रूपए से अधिक राशि का 24 लाख 88 हजार 279 मीटरिक टन धान खरीदा जा चुका है। धान खरीदी का यह विशेष अभियान विगत एक नवम्बर 2007 से चल रहा है। इस दौरान विगत लगभग 74 दिनों में इन समितियों में खरीदे गए धान में छह लाख 50 हजार मीटरिक टन मोटा, 11 लाख 69 हजार मीटरिक टन ग्रेड-ए तथा छह लाख 68 हजार  मीटरिक टन सरना धान शामिल है।

पौने चौबीस लाख मीटरिक टन से अधिक धान की खरीदी

राज्य में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के डेढ़ हजार से अधिक धान खरीदी केन्द्रों पर कल 10 जनवरी तक एक हजार 807 करोड़ रूपए से अधिक राषि के 23 लाख 77 हजार 491 मीटरिक टन धान खरीदा जा चुका है। धान खरीदा का यह विषेष अभियान विगत एक नवम्बर 2007 से चल रहा है। इस दौरान विगत लगभग 71 दिनों में इन समितियों मेें खरीदे गए धान में चार लाख 81 हजार मीटरिक टन मोटा, सात लाख 59 हजार मीटरिक टन ग्रेड-ए तथा चार लाख 69 हजार 629 मीटरिक टन सरना धान शामिल है।