संविदा पदों की मेरिट सूची ऑनलाइन जारी

रायुपर, 01 अगस्त 2017 - मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय रायपुर द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के विभिन्न कार्यक्रमों अंतर्गत रिक्त संविदा पदों पर भर्ती की जा रही है।

स्वास्थ्य  कार्यक्रमों के अंतर्गत साईकेट्रिक नर्स, कम्यूनिटी नर्स, केस रजिस्ट्री असिस्टेन्ट, मलेरिया टेक्नीकल सुरपरवाईजर, नर्सिंग ट्यूटर, स्टॉप नर्स पीएचसीए स्टॉप नर्स एनआरसीए चिकित्सा अधिकारी (महिला व पुरूष), स्टॉप नर्स, नर्स, और जी.एन.एम. आटोमेट्रिस्ट के संविदा पदों की दावा आपत्ति का निराकरण एवं मेरिट सूची स्थानीय कार्यालय के सूचना पटल पर चस्पा कर दी गई है।

सूची का अवलोकन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय पुराना नर्सिंग हॉस्टल में किया जा सकता है।

समर्थन मूल्य पर धान बेचने किसानों का पंजीयन 16 अगस्त से

जीरो शार्टेज वाली समितियों को मिलेगा कमीशन व प्रोत्साहन राशि: कलेक्टर श्री ओ.पी चौधरी, कलेक्टर ने पंजीयन के लिए सहकारी समितियों के पदाधिकारियों की ली बैठक

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए किसानों का पंजीयन आगामी 16 अगस्त से 31 अक्टूबर तक किया जाना है। विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी शून्य प्रतिशत शार्टेज पर धान का उठाव और परिवहन किया जाना है। जिन समितियांे द्वारा पिछले वर्ष शून्य प्रतिशत शार्टेज पर धान का उठाव व परिवहन किया गया है, ऐसे समितियों को कमीशन और प्रोत्साहन की राशि प्रदान की जाएगी। समर्थन मूल्य पर धान बेचने हेतु किसानांे का पंजीयन करते समय आधार कार्ड अनिवार्य रुप से जोड़ा जाना है। जिन किसानों का नवीन पंजीयन किया जाना है ऐसे किसानों को तहसीलदार के पास आवेदन निर्धारित प्रपत्र में प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा। कलेक्टर श्री ओ.पी. चौधरी ने खरीफ विपणन वर्ष 2017-18 में धान विक्रय हेतु किसानों के पंजीयन के संबंध में आज यहां जिला कलेक्टोरेट परिसर स्थित कृषि विभाग के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में उपरोक्त बातें कही।

कलेक्टर ने कहा कि धान बेजने के लिए किसानों के पंजीयन की कार्यवाही का सतत निरीक्षण राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा किया जायेगा। पूर्व में पंजीकृत किसानों का प्रतिवेदन पटवारी द्वारा अनिवार्य रुप से 31 अगस्त तक प्रस्तुत किया जाना है। नया पंजीयन जोड़ने के साथ-साथ फौत अथवा बेची जा चुकी जमीन को पंजीयन से हटाने तथा पुनः पंजीयन की जवाबदारी राजस्व अधिकारियों की होगी। यह ध्यान रखें कि उल्लेखित भूमि एवं धान के रकबे का पटवारी द्वारा राजस्व रिकार्ड के आधार पर सत्यापन किया जाएगा। इसी तरह किसानों द्वारा जितनी जमीन पर धान बोआई की गई है उतनी जमीन का ही पंजीयन किया जाना चाहिए। बैठक के दौरान उपस्थित सहकारी समिति के पदाधिकारियों द्वारा धान खरीदी एवं परिवहन संबंधी समस्याओं से अवगत कराया गया। कलेक्टर ने इन समस्याओं को तत्काल निराकृत करने राजस्व अधिकारी, मार्कफेड एवं खाद्य अधिकारी को निर्देशित किया गया। समितियों में खाद एवं उर्वरक की कमी पर गंभीर नाराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।        

हिन्दी