संकल्प पर्व छत्तीसगढ़ तैयारी शुरू

इस बार संकल्प पर्व के रूप में मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस : प्रधानमंत्री की घोषणा के अनुरूप छत्तीसगढ़ में भी तैयारी शुरू

हर गांव में प्रभातफेरी के साथ वर्ष 2022 के भारत पर होगा विचार मंथन

रायपुर, 11 अगस्त 2017 - प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा के अनुरूप इस वर्ष के स्वतंत्रता दिवस को ’संकल्प पर्व’ के रूप में मनाने की तैयारी छत्तीसगढ़ सरकार ने भी शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अधिकारियों को सभी जिलों में व्यापक जनभागीदारी से संकल्प पर्व का आयोजन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। संकल्प दिवस के अवसर पर सभी गांवों में अंग्रेजों के खिलाफ वर्ष 1942 में देश में हुए ’भारत छोड़ो आंदोलन’ की 75वीं वर्षगांठ भी मनाई जाएगी।
राज्य सरकार के पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग ने आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) से इस सिलसिले में प्रदेश के सभी जिला कलेक्टरों और जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को परिपत्र जारी कर दिया गया है। परिपत्र में केन्द्र सरकार के निर्देश का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस ’संकल्प पर्व’ के रूप में मनाया जाए, जिसमें ’संकल्प से सिद्धी’ तक का संकल्प लिया जाए। यह संकल्प एक नये जनआंदोलन ’संकल्प से सिद्धी’ का जनक होगा।
विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री एम.के. राउत द्वारा जारी परिपत्र में यह भी कहा गया है कि 15 अगस्त की सुबह स्वतंत्रता दिवस समारोह के साथ हर गांव में प्रभात फेरी का आयोजन किया जाए, जिसमें स्थानीय स्कूलों के विद्यार्थी, युवा और स्वयं सेवी सदस्यों सहित ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों को भी शामिल किया जाए। देश के छह प्रमुख शत्रुओं-गंदगी, गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जातिवाद और सम्प्रदायवाद हैं। इन शत्रुओं को भारत से बाहर निकालने की प्रतिज्ञा ली जाए। इसके अलावा सभी गांवों में ’भारत छोड़ो आंदोलन’ की 75वीं वर्षगांठ का आयोजन किया जाएगा।
जनपद पंचायतों और जिला पंचायतों द्वारा सभी ग्राम सभाओं के सदस्यों को छपे हुए संकल्प पत्रों का वितरण किया जाएगा, जिसमें सामूहिक और व्यक्तिगत प्रतिज्ञा का भी प्रावधान रहेगा। ग्राम सभाओं में सदस्य के रूप में शामिल सभी ग्रामवासी संकल्प पत्र पर हस्ताक्षर करेंगे। संकल्प पत्र जिला पंचायतों द्वारा एकत्रित कर उनके बारे में पंचायत संचालनालय को जानकारी दी जाएगी। शपथ के बाद ग्राम सभाओं में ’नया भारत मंथन’ विषय पर परिचर्चा भी आयोजित करने के निर्देश दिए गए हैं, जिसमें ग्राम सभा के सदस्य ’वर्ष 2022 में भारत कैसा हो’ विषय पर चर्चा करेंगे और नये भारत के लिए अपने योगदान का भी उल्लेख करेंगे। आयोजन में आम जनता को नये भारत पर अपने विचार व्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। परिपत्र में बताया गया है कि इस संबंध में लोग वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यूडॉटन्यूइंडियाडॉटइन (www.newindia.in) के जरिए भी अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं। ग्राम पंचायतों द्वारा ’नया भारत मंथन’ विषय पर परिचर्चा में मनरेगा श्रमिकों, स्व-सहायता समूहों के सदस्यों और प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के हितग्राहियों को भी आमंत्रित किया जाएगा, ताकि सभी लोगों के विचारों के निष्कर्ष के आधार पर आवश्यकतानुसार नीतिगत निर्णय लिए जा सकें।
परिपत्र में जिला पंचायतों से कहा गया है कि वे इस परिचर्चा के निष्कर्षों को संकलित कर महत्वपूर्ण बिन्दुओं का प्रतिवेदन पंचायत संचालनालय को भेजे। संकल्प दिवस मनाने के लिए ग्राम पंचायतों, जनपद पंचायतों और जिला पंचायतों के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का सम्मेलन भी इस माह आयोजित किया जाएगा। परिपत्र में जिला पंचायतों को संकल्प दिवस के कार्यक्रमों का दस्तावेजीकरण करने और फोटोग्राफ्स तथा वीडियो रिकार्डिंग पंचायत राज मंत्रालय को भेजने के निर्देश भी दिए गए हैं।

नये भारत के निर्माण का संकल्प
स्वतंत्रता दिवस को संकल्प पर्व के रूप में मनाने के लिए राज्य सरकार ने परिपत्र के साथ ’नये भारत का संकल्प’ का प्रारूप भी जिला कलेक्टरों और जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को भेजा है। यह संकल्प ग्राम सभाओं में व्यक्तिगत और संस्थागत रूप से लिया जाएगा।

संकल्प इस प्रकार है:-

हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, एक नये भारत का।
1942 में हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने एक संकल्प लिया था, भारत छोड़ो का और 1947 में वह महान संकल्प सिद्ध हुआ, भारत स्वतंत्र हुआ।
हम सब मिलकर संकल्प लेते है, 2022 तक नये भारत के निर्माण।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, स्वच्छ भारत का।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, गरीबी मुक्त भारत का।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, भ्रष्टाचार मुक्त भारत का।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, आतंकवाद मुक्त भारत का।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, सम्प्रदायवाद मुक्त भारत का।
हम सब मिलकर संकल्प लेते हैं, जातिवाद मुक्त भारत का।
नये भारत के निर्माण के अपने इस संकल्प की सिद्धी के लिए हम सब मन और कर्म से जुट जाएंगे।

हिन्दी