विमोचन

मुख्य मंत्री का आज का दिन २२ नवम्बर २०१७

मुख्यमंत्री ने किया ’संगवारी’ का विमोचन किया

रायपुर 22 नवंबर 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां उनके निवास कार्यालय में दैनिक लोकदेश समाचार पत्र की स्मारिका ’संगवारी’ का विमोचन किया।  यह स्मारिका छत्तीसगढ़ प्रदेश की विकास यात्रा और राज्य की कला-संस्कृति और ऐतिहासिक विशेषताओं तथा पर्यटन स्थलों पर केन्द्रित है। मुख्यमंत्री ने स्मारिका की प्रशंसा करते हुए इसके प्रकाशन के लिए समाचार पत्र की प्रगति की कामना की। इस अवसर पर दैनिक लोकदेश के प्रधान संपादक श्री तेजभान पाल, समूह संपादक श्री मनोज सिंह राजपूत और स्थानीय संपादक श्री मधुकर द्विवेदी भी उपस्थित थे।

अमर शहीदों के चित्रों का भी मुख्यमंत्री ने किया लोकार्पण

आदिवासी कल्याण योजनाओं पर आधारित पुस्तिकाओं का विमोचन

रायपुर, 09 अगस्त 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां विश्व आदिवासी दिवस समारोह में अनुसूचित जनजातियों के लिए संचालित योजनाओं और उनके कानूनी अधिकारों पर केन्द्रित तीन पुस्तिकाओं का विमोचन किया। इनमें से प्राकृतिक आपदा पीड़ित आमजनों को राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत दी जाने वाली सहायता का विवरण ‘हर संकट में छत्तीसगढ़ शासन आपके साथ’ शीर्षक पुस्तिका में शामिल है। इसका प्रकाशन राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग ने किया है।

सरकारी नीर पठनीय पुस्तक: जल कल्याण योजनाओं की एक साथ जानकारी

पेयजल और स्वच्छता पर आधारित पुस्तक / पुस्तिका का आना जनता तक सरकारी कार्यों के पहुंच का एक उत्तम माध्यम है. जनसामान्य को पीने वाले पानी का कार्य देखने वाला है लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और यहीं से सरकारी योजनाओं की खासियतों का जिक्र करती हुई पुस्तक आई है नीर. शीर्षक से ही जाहिर है कि नीर अर्थात जल या पानी के सम्बन्ध में सुंदर-सुंदर बातें आपको पढ़ने मिलेगी. यह जनता के विकास कार्यों में रुचि रखने वाले और विद्यार्थियों के लिए एक उत्तम जानकारी है. साथ ही साथ जो प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेते हैं उन लोगों को भी नीर पुस्तक अपने पास अवश्य रखनी चाहिए.

हज कमेटी वार्षिक प्रतिवेदन विमोचन

रायपुर, 16 जुलाई 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां छत्तीसगढ़ राज्य हज कामेटी द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कमेटी के वार्षिक प्रतिवेदन 2016 का विमोचन किया। समता कालोनी स्थित अग्रसेन धाम के सभा कक्ष में यह कार्यक्रम छत्तीसगढ़ क हज यात्रियों के टीकाकरण और यात्रा की सामग्री के किट वितरण के लिए आयोजित किया गया था।

प्रचलित संस्कृति के मूल स्वरूपों पर पुस्तक

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में श्री सुशील भोले की पुस्तक ‘आखर अंजोर’ शीर्षक से प्रकाशित पुस्तक का विमोचन किया। इसमें छत्तीसगढ़ के मैदानी भाग में प्रचलित संस्कृति के मूल स्वरूपों पर श्री भोले के आलेखों का संकलन है।

इस पुस्तक विमोचन अवसर पर श्री श्याम बैस, डॉ. सुखदेव राम साहू, श्रीराम शरण कश्यप और श्री भूपेन्द्र वर्मा उपस्थित थे। 

मोर रायपुर काफी टेबल बुक

केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री नायडू ने काफी टेबल बुक ‘मोर रायपुर’ का किया विमोचन

रायपुर, 26 मई 2017 - केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री श्री वेंकैया नायडू ने आज शाम यहां छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आयोजित नगरीय विकास उत्सव और स्मार्ट सिटी सम्मेलन में नगर निगम रायपुर के शानदार 150 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर ‘मोर रायपुर’ शीर्षक से प्रकाशित काफी टेबल बुक का विमोचन किया।

डॉ. विभा सिंह की पुस्तक भारत में जनजाति विकास

मुख्यमंत्री द्वारा 'भारत में जनजाति विकास' का विमोचन
रायपुर, 11 नवंबर 2011 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कल रात यहां अपने निवास पर 'भारत में जनजाति विकास' शीर्षक से प्रकाशित डॉ. विभा सिंह की पुस्तक का विमोचन किया। उन्होंने लेखिका को पुस्तक प्रकाशन पर बधाई और शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती वीणा सिंह भी उपस्थित थीं।

जमीन जायदाद पर पत्रिका प्रकाशन

रियल स्टेट पर केन्द्रित पत्रिका का मुख्यमंत्री ने किया विमोचन
रायपुर, 11 नवंबर 2011 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां मंत्रालय में रियल स्टेट पर केन्द्रित हिन्दी में प्रकाशित पत्रिका 'मेरा प्रापर्टी-1' का विमोचन किया। पत्रिका के मुख्य सम्पादक श्री हरप्रीत ढोडी ने मुख्यमंत्री को इसमें प्रकाशित सामग्री के बारे में बताया। मुख्यमंत्री ने इसके प्रकाशन की शुरूआत होने पर उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी।

माता कौशल्या केन्द्रित पत्रिका विमोचन

मुख्यमंत्री ने माता कौशल्या पर केन्द्रित विशेषांक का विमोचन किया
रायपुर, 11 नवंबर 2011 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज दोपहर यहां मंत्रालय में 'आगासदिया' पत्रिका द्वारा प्रकाशित माता कौशल्या पर केन्द्रित विशेषांक का विमोचन किया।

इस अवसर पर संत कवि श्री पवन दीवान और :अगासदिया' पत्रिका के सम्पादक डॉ. परदेशी राम वर्मा भी उपस्थित थे। यह विशेषांक मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम की माता कौशल्या पर केन्द्रित है। पौराणिक इतिहासकारों के अनुसार छत्तीसगढ़ (दक्षिण कोशल) को माता कौशल्या का मायका माना जाता है।