विमोचन

तीन विरासत पुस्‍तकों का विमोचन

गांधीजी के विचार और कार्य अमर तथा देश की युवा पीढ़ी के लिए अत्‍यंत प्रासंगिक हैं 

स्‍वाधीनता सैनानियों के दर्शन और योगदान के बारे में युवा पीढ़ी को शिक्षित करने की आवश्‍यकता है – श्री वेंकैया नायडू

सूचना और प्रसारण मंत्री ने चम्‍पारण सत्‍याग्रह के शताब्‍दी समारोह के अवसर पर तीन विरासत पुस्‍तकों का विमोचन किया

हमारी एकता पुस्तिका का विमोचन

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां विधानसभा परिसर स्थित अपने कार्यालय कक्ष में छत्तीसगढ़ हाउसिंग कॉलोनी सड्डू विकास समिति द्वारा प्रकाशित पुस्तिका ’हमारी एकता’ भाग-तीन का विमोचन किया।

पुस्तिका में कॉलोनी के नागरिकों द्वारा किए जा रहे स्वच्छता और समाज सेवा के कार्यों के बारे में जानकारी के साथ जरूरी टेलीफोन नम्बर प्रकाशित किए गए हैं।

युवाओं जागो और जगाओ, ग्राम-सभा

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां विधानसभा परिसर स्थित अपने कार्यालय कक्ष में ‘युवाओं जागो और जगाओ, ग्राम-सभा’ शीर्षक से प्रकाशित पुस्तिका का विमोचन किया।

इस अवसर पर विधायक श्री शिवरतन शर्मा और इस पुस्तिका के लेखक और छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता श्री गौरीशंकर अग्रवाल भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने युवाओं जागो और जगाओ, ग्राम-सभा पुस्तिका के प्रकाशन पर उन्हें बधाई एवं शुभकामनाएं दी। 

रिश्ते ही रिश्ते विवाह पुस्तक का विमोचन

रायपुर, 09 अप्रेल 2016 - कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने यहां अपने शंकर नगर स्थित निवास पर ठेठवार यादव समाज रायपुर द्वारा प्रकाशित पुस्तक ’रिश्ते ही रिश्ते’ का विमाचन किया। श्री अग्रवाल ने मौके पर उपस्थित समाज के सभी पदाधिकारियों और सदस्यों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। 

कृषि मंत्री को समाज के पदाधिकारियों ने बताया कि विगत 14 फरवरी को रायपुर में समाज द्वारा युवा परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया था। इसी सम्मेलन के संदर्भ में यह पुस्तक प्रकाशित कराई गई है।

स्टेट्स ऑफ ट्रायबल चाइल्ड हेल्थ इन इंडिया

स्कूल शिक्षा मंत्री ने किया 'स्टेट्स ऑफ ट्रायबल चाइल्ड हेल्थ इन इंडिया' पुस्तक का विमोचन
रायपुर, 06 जुलाई 2009 - स्कूल शिक्षा मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने यहां अपने शंकर नगर स्थित आवास पर राजनांदगांव के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. पुखराज बाफना की पुस्तक 'स्टेट्स ऑफ ट्रायबल चाइल्ड हेल्थ इन इंडिया ' का विमोचन किया ।

इस अवसर पर ब्रिटिश काउसिंल ऑफ इंडिया के डिप्टी डायरेक्टर श्री लेस डेंजरफिल्ड तथा अर्थ मेटर्स फाउन्डेशन के श्री माइक पाण्डेय भी उपस्थित थे।

वनौषधि बोर्ड के नये वर्ष के कैलेण्डर का विमोचन

रायपुर, 01 जनवरी 2008 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के जंगलों को वनवासियों की रोजी-रोटी का एक बेहतर जरिया बनाने के अपनी सरकार के संकल्प को दोहराते हुए कहा है कि जंगल यदि हमारे वनवासियों की अर्थव्यवस्था से सीधे जुड़ा हुआ हो तो वह अपने आप सुरक्षित हो जाता है। मुख्यमंत्री ने वनों की सुरक्षा और विकास के कार्यों में वनवासियों की सक्रिय भागीदारी के लिए वन विभाग को उनके साथ और भी अधिक बेहतर सम्पर्क और संवाद बनाने के निर्देश दिए।

'छत्तीसगढ़ विकास' का विमोचन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा

देश और दुनिया के विकास का रास्ता गांवों और खेतों से होकर निकलता है। किसानों की सम्पन्नता से ही बाजारों में चहल-पहल हो सकती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया में आगे चल कर भारतीय अर्थ व्यवस्था ही टिकाऊ होगी, क्योकि यह कृषि पर आधारित है। डॉ. रमन सिंह ने आज सवेरे यहां अपने निवास पर राज्य योजना मंडल द्वारा प्रकाशित पुस्तक 'छत्तीसगढ़ विकास' का विमोचन करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए। योजना मंडल के उपाध्यक्ष डॉ. दीनानाथ तिवारी, पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. लक्ष्मण चतुर्वेदी और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति डॉ.

'महिलाओं के कानूनी अधिकार' पुस्तक का विमोचन

डॉ. रमन सिंह ने आज दोपहर यहां शहीद स्मारक भवन में छत्तीसगढ़ महिला कोष हितग्राहियों के रायपुर जिले के एक दिवसीय जिला स्तरीय सम्मेलन में 'महिलाओं के कानूनी अधिकार' शीर्षक एक पुस्तक का विमोचन किया। यह पुस्तक महिला एवं बाल विकास विभाग के राज्य संसाधन केन्द्र द्वारा प्रकाशित की गयी है। कार्यक्रम की अध्यक्षता महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री सुश्री लता उसेण्डी ने की।

देश में जनजाति अंचल का प्रथम आईएसओ कलेक्ट्रेट डूंगरपुर, राजस्‍थान

गुणवत्तायुक्त जनसेवाओं, जन सामान्य केन्द्रित कुशल व प्रभावी कार्यप्रणाली के लिए डूंगरपुर जिला कलेक्ट्रेट को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का आईएसओ 9001:2000 प्रमाण पत्र प्राप्तकर्त्‍ता घोषित किया गया है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्री भवानी जोशी ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट को जारी आईएएसओ प्रमाण पत्र का विमोचन कर यह उद्धोषणा की। अब डूंगरपुर कलेक्ट्रेट आईएसओ प्रमाण पत्र प्राप्त करने वाला देश में जनजाति अंचल का प्रथम कलेक्ट्रेट बन गया है।