लोक सुराज अभियान 2017

मुख्यमंत्री 12-13 अप्रैल को कांकेर-दुर्ग जिले के दौरे पर

लोक सुराज अभियान 2017 - रायपुर, 10 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह लोक सुराज अभियान के तहत 12 अप्रैल को कांकेर और 13 अपै्रल को दुर्ग जिले का दौरा करेंगे। मुख्यमंत्री 12 अप्रैल को राजधानी रायपुर से हेलीकाप्टर द्वारा सवेरे नौ बजे रवाना होंगे और किन्हीं दो गांवों का आकस्मिक दौरा करने के बाद दोपहर एक बजे कांकेर पहुंचेंगे। वे शाम चार बजे वहां कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिले की विकास योजनाओं की समीक्षा करेंगे। वे इस बैठक के बाद शाम 6 बजे से 6.30 बजे तक स्थानीय पत्रकारों से चर्चा करेंगे। डॉ.

मुख्यमंत्री पहुंचे सीमावर्ती गांव चांदनी बिहारपुर

समाधान शिविर में युवाओं को कॉलेज की सौगात, क्षेत्र के 87 गांवों में सोलर पम्पों से मिलेगा पीने का साफ पानी: डॉ. रमन सिंह
लगभग 287 मजरों-टोलों में जल्द पहुंचेगी बिजली
चांदनी बिहारपुर को उपतहसील का दर्जा

मुख्यमंत्री ने ग्रामीण के साथ गमछा बांधकर किया श्रमदान

मुख्यमंत्री ने मकान बना रहे ग्रामीण के साथ गमछा बांधकर किया श्रमदान : शोबरन नाग के मकान में डॉ. रमन ने अपने हाथों से की ईंटों की जोड़ाई

ग्रामीण परिवार ने गुड़ और बिस्कुट से किया मुख्यमंत्री का स्वागत

पहाड़ियों से घिरे जोकापाट में किया जाएगा पर्यटन सुविधाओं का विकास: डॉ. रमन सिंह

बैकुंठपुर में लोक सुराज अभियान २०१७ की समीक्षा

हर तीन महीने में होगी अधिकारियों के काम-काज की समीक्षा: डॉ. रमन सिंह
लोक सुराज के तहत मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में जिला स्तरीय बैठक 
रायपुर, 06 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि सरकारी योजनाओं के बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए अधिकारियों के काम-काज की हर तीन महीने में समीक्षा की जाएगी और उनके कार्यो का मूल्यांकन किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को  गांवों और शहरों का सघन दौरा करने और योजनाओं का मौका मुआयना करने के भी निर्देश दिए हैं। 

मांझीगुडा डीएवी आदर्श विद्यालय में अचानक मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे स्कूल: बच्चों से पूछा उनकी पढ़ाई के बारे में

रायपुर 05 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज सवेरे जिला मुख्यालय से बीजापुर से रवाना होने के पहले वहां से पांच किलोमीटर पर ग्राम मांझीगुडा स्थित डीएवी आदर्श विद्यालय मुख्यमंत्री में अचानक पहुंच गए। उन्होने वहां बच्चों से उनकी पढ़ाई  और प्राचार्य तथा शिक्षकों से विभिन्न कक्षाओं के पाठयक्रमों के बारे में पूछा।