रायपुर में जंगी चुनावी भूमिपूजन शिलान्यास

राजधानी की जनता को चार विधान सभा क्षेत्र में 680 करोड़ के निर्माण कार्यों की सौगात : मुख्यमंत्री ने किया भूमिपूजन-शिलान्यास

राजधानी का होगा स्मार्ट सिटी के रूप में विकास: डॉ. रमन सिंह

रायपुर, 15 जून 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज राजधानी रायपुर को स्मार्ट सिटी का स्वरूप देने के लिए जनता को लगभग 680 करोड़ रूपए के विकास कार्यो की सौगात दी। उन्होंने पंडरी कपड़ा मार्केट (देवेन्द्र नगर) में आयोजित कार्यक्रम में दस महत्वपूर्ण निर्माण कार्यो का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। इनमें रायपुर-केन्द्री नेरोगेज रेल लाईन के स्थान पर फोरलेन सड़क निर्माण, शास्त्री चौक में स्काई वॉक निर्माण, केनाल लिंकिंग रोड में कमल विहार के पास फ्लाईओव्हर निर्माण, सिटी कोतवाली से टिकरापारा-पचपेड़ी नाका चौक तक सड़क उन्नयन कार्य, डीआरएम आफिस के नजदीक रेल्वे ओव्हर ब्रिज निर्माण, उरकुरा-सरोना रेलमार्ग के गोंदावारा गेट पर रेल्वे अंडरब्रिज निर्माण, राजेन्द्र नगर, कुशालपुर और भाठागांव चौक में ओव्हरपास निर्माण तथा शहीद स्मारक भवन उन्नयन कार्य शामिल हैं। 
भूमिपूजन-शिलान्यास समारोह की अध्यक्षता लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस ने की। प्रदेश के लोक निर्माण, आवास और पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत, कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, संसदीय सचिव श्री राजू सिंह क्षत्री, पाठ्यपुस्तक निगम के अध्यक्ष और विधायक धरसीवा श्री देवजी भाई पटेल, रायपुर ग्रामीण के विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, रायपुर उत्तर के विधायक श्री श्रीचंद सुंदरानी, राज्य सभा सांसद डॉ. भूषण लाल जांगड़े, महापौर श्री प्रमोद दुबे, राज्य बीज निगम के अध्यक्ष श्री श्याम बैस, औद्योगिक विकास निगम के अध्यक्ष श्री छगन मूंदड़ा, रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री संजय श्रीवास्तव, भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अध्यक्ष श्री मोहन एंटी, पर्यटन मंडल के उपाध्यक्ष श्री केदारनाथ गुप्ता और मनोनित विधायक श्री बर्नाड जोसेफ रोड्रिक्स विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। 
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुख्य अतिथि की आसंदी से समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा-छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी बनने के बाद रायपुर शहर का तेजी से विकास हो रहा है। राजधानी को हम सब मिलकर जनता के सहयोग से स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करेंगे। इसके सुनियोजित विकास के लिए कई निर्माण कार्य चलाए जा रहे हैं। इससे एक ओर जहां जन सुविधाओं का विस्तार होने लगा है, वहीं रायपुर को बहुत जल्द एक स्मार्ट सिटी के रूप में नई पहचान भी दी जा सकेगी। उन्होंने बताया कि नगरों को स्मार्ट सिटी का स्वरूप देने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा संचालित योजना में राजधानी रायपुर भी चयनित है। इसके तहत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की मंशा के अनुरूप रायपुर शहर के विकास के लिए हर संभव पहल की जा रही है। आज एक ही दिन में लगभग 680 करोड़ रूपए की बड़ी राशि के कई विकास कार्यो का एक साथ भूमिपूजन होना इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। उन्होंने आज के दिन को एक ऐतिहासिक दिन बताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि शास्त्री चौक पर निर्मित होने वाले स्काई वाक कल्पना शीलता का एक अनूठा नमूना है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए लोक सभा सांसद श्री रमेश बैस ने कहा कि आज रायपुर तेजी से राजधानी का रूप ले रहा है। राज्य शासन द्वारा योजनाबद्ध रूप से रायपुर शहर और उसके आस-पास के क्षेत्रों का विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रायपुर को सुन्दर और साफ-सुथरा बनाने के लिए सबका सहयोग जरूरी है। यदि हम अपने मोहल्ले को स्वच्छ रखेंगे तो पूरा रायपुर शहर स्वच्छ बनेगा। लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत ने इस अवसर पर कहा कि 611 करोड़ रूपए की लागत के कार्य पहले से ही राजधानी में चल रहे हैं। आज 680 करोड़ रूपए की लागत के जिन कार्यो का भूमिपूजन हुआ है। वे कार्य अगस्त 2017 के पहले पूरे कर लिए जाएंगे। कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि आज का कार्यक्रम रायपुर शहर को नया स्वरूप देने वाला कार्यक्रम है। उन्होंने कहा कि रायपुर शहर के एक सौ साल के इतिहास में यह सबसे बड़ा काम है। उन्होंने बताया कि रिंग रोड नंबर-1 पर बनने वाले चार ओव्हर पासों से इस क्षेत्र की लगभग चार लाख जनसंख्या लाभान्वित होगी। विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री ने इन कार्यो को मंजूरी प्रदान कर रायपुर को सुन्दर बनाने का उपक्रम प्रारंभ किया है। विधायक श्री श्रीचंद सुन्दरानी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार शहर में इतनी लागत के कार्य एकसाथ प्रारंभ हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आज जिन निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया, उनकी जानकारी इस प्रकार है:-
रायपुर-केन्द्री नेरो गेज रेल्वे लाईन के स्थान पर फोरलेन मार्ग का निर्माण 
छत्तीसगढ़ राज्य के गठन के पश्चात राजधानी रायपुर के यातायात एवं आवागमन में काफी वृद्धि हुई है। मुख्य रेल्वे स्टेशन के सभी मार्गो पर अक्सर जाम की स्थिति निर्मित हो जाती है। इससे निजात पाने के लिए छोटी रेल लाईन के स्थान पर मुख्य रेल्वे स्टेशन के प्लेटफार्म-1 से शदाणी दरबार के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-30 के संगम तक 12.02 किलोमीटर लम्बा फोर लेन मार्ग का निर्माण 459 करोड़ 36 लाख रूपए की लागत से किया जा रहा है। इस मार्ग के चारो फ्लाई ओव्हर के अतिरिक्त अन्य जंक्शन को भी चौड़ा किया जाएगा। निर्माण एजेंसी के द्वारा कार्य भी शुरू कर दिया है जिसे 16 माह में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है। छत्तीसगढ़ राज्य सरकार के द्वारा इस निर्माण कार्य को पूर्ण किए जाने का दायित्व व छत्तीसगढ़ रोड डेव्हलपमेंट कार्पोरेशन लिमिटेड, रायपुर को सौंपा गया है। 
राजधानी के शास्त्री चौक पर स्काई वॉक का निर्माण 
राजधानी रायपुर का शास्त्री चौक एक महत्वपूर्ण तथा अतिव्यस्त चौक है। इसके आस-पास जिला एवं सत्र न्यायालय, कलेक्टर कार्यालय, घड़ी चौक, डी.के. अस्पताल, एस.डी.एम. एवं तहसील कार्यालय, शहीद स्मारक, आयुक्त कार्यालय, मल्टीलेवल पार्किंग, अम्बेडकर अस्पताल (मेकाहारा) और अनेक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स स्थित है, जिसके कारण इस क्षेत्र में आम जनता का पैदल आना-जाना अत्यधिक होता है। इसी तरह वाहनों के अत्यधिक आवागमन के कारण आम जनता को यहां के मार्गो पर पैदल चलने तथा उन्हें पार करने में बहुत कठिनाई होती है। साथ ही दुर्घटना की संभावना बनी रहती है और यातायात भी बाधित होता है। ऐसी स्थिति में आम जनता की सुविधा के लिए शास्त्री चौक पर और शास्त्री चौक से जिला एवं सत्र न्यायालय भवन की ओर, कलेक्टर कार्यालय की ओर, घड़ी चौक की ओर, डी.के. अस्पताल, मोती बाग चौक की तरफ, मल्टीलेवल पार्किंग, अम्बेडकर अस्पताल की ओर स्काई वॉक का निर्माण किया जाएगा। इसके निर्माण के लिए 49 करोड़ छह लाख रूपए का प्रावधान रखा गया है। 
केनाल लिकिंग रोड पर कमल विहार के समीप फ्लाई ओव्हर का निर्माण
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर अत्यंत तेजी से विकसित होता हुआ नगर है। यहां के नागरिकों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से नगर में एनएच-30 के किनारे कमल विहार आवासीय एवं व्यावसायिक क्षेत्र विकसित किया जा रहा है। जिसमें सुगम यातायात व्यवस्था को ध्यान में रखते हुए इसे शेष रायपुर से जोड़ने के लिए एक फ्लाई ओव्हर का निर्माण किया जाएगा। इसके निर्माण में 25 करोड़ 38 लाख रूपए की लागत आएगी। 
सिटी कोतवाली से टिकरापारा पचपेड़ी नाका चौक तक मार्ग का उन्नयन
रायपुर सिटी कोलवाली से टिकरापारा पचपेड़ी नाका मार्ग यातायात की दृष्टि से अतिव्यस्ततम मार्ग होने के कारण इसका उन्नयन कार्य जरूरी था। इसके उन्नयन के लिए 19 करोड़ 56 लाख 50 हजार रूपए की राशि का प्रावधान रखा गया है। 
डी.आर.एम. ऑफिस रायपुर के समीप रेल्वे ओव्हर ब्रिज का निर्माण
रायपुर-विशाखापट्नम रेल लाईन पर लेवल क्रॉसिंग के.आर.व्ही.-1 डी.आर.एम. ऑफिस के समीप टी.व्ही.यू. होने के कारण 24 घंटे मे 50 बार रेल्वे फाटक बंद होता है, जिसके कारण रायपुर से बिलासपुर की ओर जाने वाले वाहनों को बार-बार जाम की स्थिति का सामना करना पड़ता है, इसे ध्यान में रखते हुए अण्डर ब्रिज के निर्माण के लिए 28 करोड़ 11 लाख रूपए की स्वीकृति प्रदान की गई है। 
उरकुरा-सरोना रेलमार्ग के गोंदवारा गेट पर बनेगा रेल्वे अण्डर ब्रिज 
उरकुरा-सरोना रेलमार्ग पर लेवल क्रॉसिंग गोंदवारा गेट में टी.व्ही.यू. होने के कारण 24 घंटे में 75 बार रेल्वे फाटक बंद होता है। जिसके कारण गुढ़ियारी से गोंदवारा आने-जाने वाले वाहनों को बार-बार जाम की स्थिति का सामना करना पड़ता है। इसे ध्यान में रखते हुए रेल्वे अण्डर ब्रिज का निर्माण 20 करोड़ 85 लाख रूपए की राशि से किया जाएगा। 
राजेन्द्र नगर के समीप ओव्हर पास का निर्माण
नगर के रिंग रोड क्रमांक-1 के दोनों ओर आवासीय तथा व्यावसायिक परिसरों का निर्माण हुआ है। इसमें यातायात अत्यधिक होने के कारण कटोरातालाब से राजेन्द्र नगर की ओर के मार्ग का यातायात बाधित होता है। यहां आम जनता की सुविधा और सुरक्षित यातायात व्यवस्था के लिए राजेन्द्र नगर चौक पर 24 करोड़ 90 लाख रूपए की राशि से ओव्हर पास का निर्माण किया जाएगा। 
भाठागांव चौक पर 24 करोड़ से बनेगा ओव्हर पास 
राजधानी के रिंग रोड क्रमांक-1 पर अत्यधिक यातायात होने के कारण राधा स्वामी नगर से भाठागांव की ओर मार्ग का यातायात बाधित होता है। इसे ध्यान में रखते हुए भाठागांव चौक पर ओव्हर पास निर्माण के लिए 23 करोड़ 89 लाख रूपए का प्रावधान रखा गया है। 
कुशालपुर चौक पर ओव्हर पास का निर्माण
राजधानी में आम जनता की सुविधा और सुरक्षित यातायात व्यवस्था के लिए कुशालपुर चौक पर ओव्हर पास का निर्माण होगा। इसके निर्माण के लिए 22 करोड़ 94 लाख रूपए की राशि स्वीकृत है। 
शहीद स्मारक भवन का नौ करोड़ से होगा उन्नयन 
रायपुर के हृदय स्थल में स्थित शहीद स्मारक भवन आडिटोरियम विगत कई वर्षो से शहर को गौरवान्वित कर रहा है। शहर के विकास के साथ-साथ ही आडिटोरियम का उच्च स्तरीय उन्नयन आवश्यक हो गया है, जिससे सभी प्रकार के आधुनिक नाट्य शाला, कार्यशाला, विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी सुगमता से आयोजन किया जा सके। इसे ध्यान में रखते हुए शहीद स्मारक भवन के उन्नयन के लिए आठ करोड़ 89 लाख 68 हजार रूपए की राशि स्वीकृत है।  

हिन्दी