राज्यपाल का जोधपुर में घर पर गणतंत्र दिवस समारोह 2017

जोधपुर में आज २६ जनवरी २०१७ को राज्यपाल पहली बार सर्वप्रथम गणतंत्र की परेड सलामी लेकर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम में शामिल हुए। 

राज्यपाल कल्याणसिंह आज गुरूवार को जोधपुर के उम्मेद राजकीय स्टेडियम में हो रहे राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे समारोह में मौजूद रहीं।     

  राज्यपाल सुबह गौरव पथ स्थित शहीद स्मारक पर शहीदों को नमन एवं श्रद्धासुमन अर्पित कर गणतंत्र दिवस समारोह को रवाना हुए। इसके पश्चात उम्मेद राजकीय स्टेडियम पहुंचकर ध्वजारोहण कर परेड का निरीक्षण किया तथा विभिन्न टुकड़ियों द्वारा प्रस्तुत मार्चपास्ट की सलामी ली।
राज्यपाल समारोह में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले व्यक्तियों को पदक एवं योग्यता प्रमाण पत्र प्रदान कर गणतंत्र दिवस २०१७ को गरिमा पूर्ण किया।

  समारोह में विभिन्न विद्यालयों के एक हजार 200 बालक-बालिकाओं तथा राजस्थान, झारखण्ड, कर्नाटक एवं उड़ीसा के सांस्कृतिक दलों का गीत नृत्य कार्यक्रम प्रस्तुत किया। राजस्थान पुलिस के जांबाज मोटरसाईकिलों पर विभिन्न करतबों के साथ रोमांचक प्रदर्शन बेहद खास रहा। इस अवसर पर विद्यालयी बालिकाओं की विशेष बैण्ड के साथ अन्य बैण्डवादन कार्यक्रम ने दर्शकों का दिल जीत कर जोधपुर गणतंत्र दिवस को अविस्मरणीय बना दिया।
    

कल २५ जनवरी २०१७ गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राज्यपाल श्री कल्याणसिंह एवं मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे की गरिमामयी उपस्थिति में बुधवार को जोधपुर के श्री उम्मेद उद्यान, जनाना गार्डन में एट होम कार्यक्रम आयोजित किया गया।     

  राज्यपाल द्वारा एट होम कार्यक्रम में 26 जनवरी 2017 के अवसर पर सम्मानित होने वाले लोक कलाकारोें, आर्टिजन्स, सामाजिक कार्यकर्ता, खिलाड़ी एवं तैराक आदि व्यक्तियों को उत्कृष्ट कार्यो के लिए सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वाले व्यक्तियो में भामाशाह श्री भंवरलाल को समाज सेवा के लिए, श्री सेवा संस्थान को समाजसेवा के लिए, श्री अर्जुनराज मेहता को समाजसेवा के लिए, श्री शिव कुमार सोनी को समाज सेवा के लिए, तेरापंंथ युवक परिषद को समाज सेवा के लिए, श्री इकराम अहमद खान को लाख कला के लिए, श्री समन्दर सिंह खंगारोत को चित्रकला के लिए, श्री भानु भारती, कोरियोग्राफर को कोरियोग्राफी के लिए, श्री विष्णु लाम्बा को प्रकृति संरक्षण एवं संवर्धन के लिए, श्री वलय अग्रवाल को शिक्षा के लिए, श्री गोपाल भारती वरिष्ठ चित्रकार को चित्रकला के लिए शामिल है। इसके अलावा श्री स्वरूप पंवार को लोकनृत्य के लिए, डॉ. मधु भट्ट तैलंग को धु्रगवपद गायन के  लिए, सुश्री राखी पूनम को कालबेलिया नृत्य के लिए, श्री गफ्फूर खां को गायन एवं खड़ताल वादन के लिए, श्रीमती गरिमा भार्गव को कथक नृत्य के लिए, श्री मनोज दासोत को बैडमिंटन खेल के लिए, डॉ. जे एम जैन को चिकित्सा के लिए, योगगुरू श्री देवेन्द्र अग्रवाल को जीवन संरक्षण एवं बेटी बचाओं अभियान के लिए तथा श्री नरेन्द्रसिंह को ऎतिहासिक धरोहर संरक्षण के लिए सम्मानित किया गया।     

  इस अवसर पर जिला प्रभारी जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री श्री सुरेन्द्र गोयल सहित जनप्रतिनिधिगण, वरिष्ठ  अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।  

हिन्दी