योगा व्यापर चल पड़ा है पर योग कहाँ?


योग के बारे में चर्चाएं चलती रहती है, आपका इसमें क्या विचार है? एक खास साक्षात्कार

ऐसा है आज कल योग का कार्यक्रम और उद्योग तो काफी चल रहा है परंतु योग जैसा होना चाहिए उस तरह से योग कहीं भी उपलब्ध नहीं है.

ठंड के मौसम आते समय ही योग क्यों जरूरी हो जाता है लोगों के लिए?

ठंड के मौसम में लोगों के हाथ पांव वैसे ही सर्दियों से जाम होने लगते हैं तो लोग सोचते हैं चलो भाई कुछ योगासन अभ्यास के द्वारा अपने आप को तरोताजा रखा जा सके, शारीरिक संचार, रक्त संचार को बढ़ाया जा सके अपने शरीर में कोई ताजगी और एनर्जी लेवल को बढ़ाया जाए सके इसलिए लोग अधिक से अधिक योग करना पसंद करते हैं.

चलिए अब इसके बारे में विस्तार से जो चर्चा है हम पहले आगे के जो योग हैं कार्यक्रम उनको देखने के बाद आपसे करेंगे.

अत्यंत प्रतिष्ठित और दीर्घकालिक अस्तित्व की योग संस्थान रायपुर छत्तीसगढ़ में स्थित भारत का अग्रणी सामाजिक सेवा संगठन है। आप साध्वी डॉ. किरण ज्योति प्रेम के योग, अध्यात्म और आयुर्वेद पोर्टल ऑनलाइन मंच पर हैं।
साध्वी डॉ. किरण ज्योति प्रेम
"योगनिष्ठ" धन्वन्तरी श्री "योगमूर्ति "
योग विज्ञान विशेषज्ञ
अध्यक्ष - विश्व धर्म संसद
राष्ट्रीय अध्यक्ष - आयुर्वेद विश्व परिषद्
निदेशक - पतंजल योग विद्या प्रतिष्ठान
कुलसचिव - गुरुकुल वैदिक विश्व विद्यापीठ
ईमेल - dr_kannoje@yahoo.com
वेबसाइट - YogKalp.Com
मोबाइल नंबर - 91 93291 04163

कार्यालय पता - पातंजल योग विद्या प्रतिष्ठान,

लिली चौक, पुरानी बस्ती, रायपुर, 492001, छत्तीसगढ़, भारत

साथी हम सब - 

समस्या किसके साथ नहीं? अकेलापन क्यों? भयभीत कौन नहीं? घबराहट क्यों? क्या क्यों है साथी हम सब का?

???? घुटन कब तक? प्रेम क्यों नहीं? मंजिल हाथ से फिसली क्यों? मन दुखी क्यों? तन सुखी क्यों नहीं? आखिर कब तक मेरे साथ ही यह सब क्यों क्यों क्यों? अंधेरा घुप अंधेरा इसीलिए तो लाए हैं -
मंत्र - साथी हम सब
तो आइए हमारा साथ आपको राहत देगा हर कदम पर उंगली हमारी तरफ बढ़ाने का फिर देखिए
- क्या चमत्कार हो सकता है साथ निभाने का? पहुंचिए हमारे आंगन में स्वागत है साथी हम सब जो हैं!

समय लेकर पहुंचिए - साथी हम सब का मर्म जानने
पहुंचिए पहली मुलाकात में ही कुछ ऐसा पाएंगे कि स्वयं से पूछेंगे
- इतनी देर क्यों हुई उहापोह उलझन व्यथा पीड़ा से निजात होगा
- जब पधारेंगे साथी हम सब की भावना लेकर आत्मीय स्वागत!

आपका "साथी हम सब" समय रविवार शाम 6:00 से 8:00 बजे तक

हिन्दी