युवा संकल्प के बाद दिशायें कलेक्टर ओ.पी.चौधरी के अभिनव कार्य

‘‘दिशांए‘‘ सितंबर माह से : 11वीं व 12 वीं के छात्र-छात्राओं को राष्ट्रीय स्तर की शैक्षणिक संस्थाओं का कराया जाएगा भम्रण

शनिवार के दिन स्कूलों में लगेगी कैरियर गाइडेंस की कक्षाएं

बच्चों के कैरियर निर्माण में प्राचार्यो की अहम भूमिका: कलेक्टर श्री चौधरी

रायपुर, 28 जुलाई 2017 - जिले के शासकीय स्कूल के ग्यारहवी और बारहवी के छात्र-छात्राएं राजधानी रायपुर में संचालित हो रहे राष्ट्रीय स्तर के शैक्षणिक संस्थान ट्रिपल आई.टी., आई.आई.एम., एन.आई.टी, एम्स, कुशाभाऊ ठाकरे पत्राकारिता विश्वविद्यालय, हिदायतुल्ला राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय और सेन्ट्रल लाइब्रेरी की गतिविधियों से सीधे रू-ब-रू हो सकेंगे।

इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा आगामी सितंबर माह से ‘‘दिशाएं‘‘ कार्यक्रम प्रारंभ कर रहा है। कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी ने बताया कि  इसके तहत बच्चों को राष्ट्रीय स्तर की इन संस्थाओं का भम्रण कराया जाएगा जिससे छात्र इन संस्थानों की गतिविधियों से सीधे रू-ब-रू होंगे, उन्हें इससे एक्सप्रोजर मिलेगा जो उनके आगे कैरियर निर्माण में काफी मददगार होगा। कलेक्टर श्री चौधरी आज यहां जे.आर. दानी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के सभागार में जिले के शासकीय स्कूलों के प्राचार्यो की एक दिवसीय कार्यशाला को संबोधित करते हुए उपरोक्त बातें कही।

श्री चौधरी ने कहा कि बच्चों के भविष्य और कैरियर निर्माण में शिक्षकों और प्राचार्यो  की अहम भूमिका होती है। सभी प्राचार्य अपने यहां शनिवार के दिन द्वितीय कालखण्ड में कैरियर गाइडेंस की कक्षाएं अनिवार्य रूप से लगवाएं जिससे बच्चों को विविध क्षेत्रों में कैरियर निर्माण के बारे में जानकारी मिल सके। कलेक्टर ने कहा कि किसी भी देश के विकास का आधार शिक्षा होता है। शिक्षा को जॉब ओरिएन्टेड होना चाहिए।

प्राचार्यो की कार्यशाला में कलिंगा विश्वविद्यालय के कामर्स एवं प्रबंधन के विभागाध्याक्ष डॉ. श्रीधर, बायो टेक्नोलॉजी की विभागाध्यक्ष डॉ. सुषमा दुबे ने विभिन्न रोजगारन्मुखी क्षेत्र जैसे कामर्स, सी.ए., खगोल, सेना, इंजीनियरिंग, मेडिकल, कृषि, पत्रकारिता, सीपेट, एस.एस.सी., बायो टेक्नीक, मार्केटिंग आदि क्षेत्रों के संबंध में विस्तार से बताया। डॉ.श्रीधर ने कहा कि बच्चे बहुमुखी प्रतिभा के धनी होते है, उन्हें सिर्फ गाईड करने की जरूरत होती है। रोजगार अधिकारी श्री केदार पटेल ने छात्र-छात्राओं को मिलने वाली विभिन्न छात्रवृत्तियां व प्रतियोगी परीक्षाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी। जिला शिक्षा अधिकारी श्री ए.एन.बंजारा ने प्राचार्यो की बहु भूमिका पर प्रकाश डालते हुए उनका जिम्मेदारीपूर्वक निर्वहन करने को कहा। इस अवसर पर सहायक संचालक श्री चौहान, श्री तिवारी सहित 190 प्राचार्यगण उपस्थित थे।

हिन्दी