मुख्यमंत्री ने अम्बेडकर जयंती पर जनता को दी बधाई

डॉ. अम्बेडकर ने अंतिम पंक्ति के लोगों में जगाया स्वाभिमान: डॉ. रमन सिंह : मुख्यमंत्री ने अम्बेडकर जयंती पर जनता को दी बधाई

रायपुर, 13 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कल 14 अप्रैल को भारतीय संविधान के महान शिल्पी डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर जनता को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री ने अम्बेडकर जयंती की पूर्व संध्या पर आज यहां जारी शुभकामना संदेश में कहा है- बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर हमारे देश के उन महान विभूतियों में से थे, जिन्होंने अपने जीवन के अंतिम क्षणों तक समाज की अंतिम पंक्ति के लोगों में स्वाभिमान जगाया और उन्हें विकास की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कठिन संघर्ष और परिश्रम किया। मुख्यमंत्री ने कहा- बाबा साहब एक गंभीर चिन्तक और विद्वान लेखक भी थे। उन्होंने अपने अनमोल विचारों से देश और दुनिया को हमेशा सही रास्ते पर चलने की प्रेरणा दी। छत्तीसगढ़ सरकार बाबा साहब के बताए रास्ते पर चलकर अनुसूचित जातियों, जनजातियों, पिछड़े तथा कमजोर वर्गों की सामाजिक- आर्थिक बेहतरी के लिए लगातार काम कर रही है।

इसके लिए कई कई योजनाएं शुरू की गयी हैं, जिनके सार्थक और सकारात्मक नतीजे मिलने लगे हैं। अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण, सरगुजा और उत्तर क्षेत्र तथा बस्तर और दक्षिण क्षेत्र विकास प्राधिकरण और ग्रामीण एवं पिछड़ा क्षेत्र विकास प्राधिकरण बनाया गया है। इन चारों प्राधिकरणांेे के जरिए जनप्रतिनिधियों के सुझावों के अनुरूप विकास के अनेक कार्य हुए हैं और लगातार हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा- बाबा साहब डॉ. अम्बेडकर के आदर्शों के अनुरूप छत्तीसगढ़ सरकार गांव, गरीब और किसानों तथा समाज के सभी कमजोर वर्गों के जीवन में तरक्की और खुशहाली लाने के लिए वचनबद्ध है। 

अम्बेडकर जयंती पर राज्यपाल की शुभकामनाएं
राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन ने भारतीय संविधान के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले डॉ. बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों के नाम अपने संदेश में कहा कि डॉ. अम्बेडकर ने सामाजिक समरूपता की स्थापना पर बल देते हुए शोषितों और पीड़ितों के लिए आवाज बुलंद की। उन्होंने वंचितों के कल्याण के लिए संविधान में महत्वपूर्ण प्रावधानों को शामिल कराने में अहम् भूमिका निभाई। वेे महिला उत्थान के भी प्रबल पक्षधर थे और उन्हें सशक्त, सबल एवं शिक्षित करने पर बल दिया। श्री टंडन ने कहा कि डॉ. अम्बेडकर के विचारों का अनुकरण करते हुए समतामूलक समाज की स्थापना करने की आवश्यकता है।  

हिन्दी