महुआ बीनने और तेन्दूपत्ता तोड़ने वालों को भी मिलेगा स्मार्ट फोन

डॉ. रमन सिंह : शबरी नदी के किनारे किसानों को दिए जाएंगे 500 अतिरिक्त सोलर पम्प

रायपुर, 09 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि महुआ बीनने वालों और तेन्दूपत्ता तोड़ने वालों को भी स्मार्ट फोन मिलेगा। उन्होंने आज आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ में यह जानकारी दी। उन्होंने रेडियो वार्ता में लोक सुराज अभियान के तहत इस महीने के पहले हफ्ते सुकमा जिले की अपनी यात्रा का उल्लेख किया और कहा - उस जिले में जब मैं गया तो मुझे खुशी हुई कि महुआ बीनने वालों और तेन्दूपत्ता तोड़ने वालों को भी जब इस बात का एहसास हुआ कि उनको स्मार्ट फोन मिलेगा, तो उन्हें भी प्रसन्नता हुई कि कनेक्टिविटी शायद उनके गांव, उनके घर और उनके पास भी आएगी। 

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार ने प्रदेश भर में मुख्यमंत्री संचार क्रांति योजना (स्काई) शुरू करने और इसके तहत लगभग 45 लाख लोगों को स्मार्ट फोन देने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री ने ‘रमन के गोठ’ प्रदेश के नक्सल हिंसा पीड़ित आदिवासी बहुल सुकमा और बीजापुर जिलों की अपनी यात्रा और वहां के लिए अपनी योजनाओं का विस्तार से उल्लेख किया। उन्होंने कहा - मैंने  सुकमा जिले की समीक्षा बैठक प्रधानमंत्री आवास योजना के लक्ष्य को तीन गुना कर दिया। उस क्षेत्र में शबरी नदी में अथाह जल है। मैंने शबरी के किनारे-किनारे बहुत यात्राएं की। शबरी नदी के पानी का उपयोग वनवासी कैसे करें, इसके लिए हमने जिला कलेक्टर को 500 अतिरिक्त सोलर सिंचाई पम्प वितरण का लक्ष्य दिया है,जो वहां के किसानों को निःशुल्क दिए जाएंगे। डॉ. सिंह ने कहा सुकमा और बीजापुर जिलों में योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए अगर जरूरी हुआ तो हम इन योजनाओं के मापदंड (क्राइटेरिया) में भी बदलाव करेंगे, ताकि बिजली और रसोई गैस कनेक्शन ज्यादा से ज्यादा परिवारों को मिल सके। डॉ. सिंह ने रेडियो वार्ता में बताया कि बीजापुर जिले में भैरमगढ़ को नये राजस्व अनुविभाग का दर्जा दिया गया, क्योंकि उस इलाके में इसकी जरूरत थी। प्रशासनिक विकेन्द्रीकरण की दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने इस बार के लोक सुराज अभियान का पहला आकस्मिक निरीक्षण धमतरी जिले के ग्राम सिंगपुर में किया था। उन्होंने आज की रेडियो वार्ता में इसका उल्लेख किया।

हिन्दी