भोजन

5 रूपए में मजदूर खायेंगे गर्म-ताजा सरकारी खाना, 14 अगस्त शुभारंभ: अध्यक्षों और उपाध्यक्षों की पहली बैठक

रेजा कुली मजदूर कमैय्या कामगार जब अपने मेहनत के बीच दोपहर में गरमा-गर्म खाना और वो भी 5 रूपये जैसे मुफ्त के मोल कीमत पर पाएंगे तो निश्चित ही मेहनत मजेदार होगी और निर्माण / उत्पादन श्रेष्ठतम होगा, स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या में प्रदेश के मुखिया दीनदयाल श्रम अन्न सहायता योजना को नई आजादी का रंग देने वाले हैं

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में निगम-मंडलों के पदाधिकारियों की बैठक : श्रमिकों के लिए दीनदयाल श्रम अन्न सहायता योजना का होगा विस्तार, सिर्फ पांच रूपए में श्रमिकों को मिलेगा गर्म और ताजा भोजन

बागवानी उत्पादन हेतु किरणन सुविधाएं? भोजन में आण्विक? भारत में खाद्य पदार्थों के कितने विकिरण केंद्र हैं?

बागवानी याने फूल फल सब्जी आदि जो हम अपने भोजन में इस्तेमाल करते हैं। सरकार फल सब्जी आदि बागवानी उत्पाद के किरणन / विकिरणीकृत करने की व्यवस्था किसानों के के हित में करती है. 

भोजन में आण्विक / आणुविक किरण? भारत में खाने की वस्तुओं को परमाणु विकिरण देने वाले कितने केंद्र हैं?
क्या आप जानते हैं भोज्य पदार्थों का किरणीयन किया जाता है? चलिए थोड़ा सरल शब्दों में बात करें।
आपने रेडिएशन सुना होगा। यह अणु और परमाणु प्रौद्योगिकी से संबंधित है। अंग्रेजी भाषा का शब्द है रेडिएशन, इससे बना है इर्रेडिएशन जिसका मतलब होता है किरणीयन अर्थात किरनीकृत करना।

पश्चिम बंगाल दलित के घर मुख्यमंत्री

​मुख्यमंत्री ने बंगाल में श्री पाचा भूनिया के घर जमीन पर बैठकर किया भोजन

रायपुर, 16 जून 2017 - छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज दोपहर पश्चिम बंगाल के प्रवास के दौरान मिदनापुर जिले के ग्राम हबीबपुर में दलित समुदाय के श्री पाचा भूनिया के घर जमीन पर बैठकर पत्तल में भोजन किया।

उन्होंने श्री भूनिया और उनके परिवार को धन्यवाद दिया और अपनी शुभकामनाएं दी। डॉ. सिंह के साथ खड़गपुर के विधायक श्री दिलीप घोष और अन्य वरिष्ठ जनों ने भी श्री भूनिया के घर भोजन किया। हबीबपुर पहंुचने पर वहां के ग्रामीणों ने डॉ. रमन सिंह का आत्मीय स्वागत किया।

सरकारी अस्पतालों में रोज 100 रूपए का भोजन

नया रायपुर, मठपुरैना और गुढ़ियारी सहित राज्य में खुलेंगे सौ-सौ बिस्तरों के सात नये सिविल अस्पताल

सरकारी अस्पतालों में भर्ती मरीजों को अब रोज 100 रूपए का भोजन

भोजन अधिकार धरातल पर साकार

चावल उत्सव - छत्तीसगढ़ के लगभग 37 लाख गरीब परिवारों को आठ जुलाई की उस सुबह का बड़ी बेताबी से इन्तजार है, जब सूरज की पहली किरण उनके लिए देश के अन्य सभी राज्यों के मुकाबले सबसे कम कीमत पर चावल और नि:शुल्क नमक मिलने का पैगाम लेकर आएगी। इस दिन राज्य की दस हजार 455 उचित मूल्य दुकानों में 'चावल उत्सव' एक साथ मनाया जाएगा।

एक घंटे में दस हजार रोटियां बनाने वाली मशीन

एक लाख लोगों के लिए भोजन बनाने का आधुनिक रसोई घर
रायपुर, 04 जुलाई 2009 - छत्तीसगढ़ के भिलाईनगर के सेक्टर-6 में स्कूली बच्चों के मध्यान्ह भोजन के लिये रोटी बनाने की मशीन लगाई गई है। समाज सेवी संस्था अक्षय पात्र फाउंडेशन द्वारा स्थानीय स्कूलों के लिए यह कार्यक्रम शुरू किया गया है, जिसमें लगाई गई अपने ढंग की पहली मशीन है।

अक्षय पात्र संस्था द्वारा शुरू किए गए आधुनिक रसोई घर (किचन) में एक लाख लोगों के लिए भोजन तैयार किया जा सकता है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज इस आधुनिक रसोई घर का शुभारंभ किया।