बृजमोहन अग्रवाल ने गरीबों को कपड़े वितरित किए

समाज सेवी संस्था 'बढ़ते कदम' के कार्यक्रम में

राजस्व एवं संस्‍कृति मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम 1857 की 150वीं वर्षगांठ के समापन अवसर पर रायपुर की सामाजिक संस्था 'बढ़ते कदम' द्वारा आयोजित कार्यक्रम में संस्था की ओर से गरीबों को कपड़े वितरित किए। श्री अग्रवाल ने 'बढ़ते कदम' के समाज सेवा के कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस संस्था ने बहुत कम समय में अपने उद्देश्यों के अनुरूप कार्य करते हुए अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि अच्छा काम करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को समाज की ओर से प्रोत्साहन और सहयोग मिलना चाहिए। इससे अन्य व्यक्ति भी समाज सेवा का कार्य करने के लिए प्रेरित होते हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि 1857 की क्रांति के परिणामस्वरूप ही हमारे देश को 1947 में आजादी मिली। हमें स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास पर गौरव करते हुए स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए बलिदानों को हमेशा याद रखना चाहिए। इन सेनानियों के बलिदान हमें राष्ट्रप्रेम और राष्ट्रभक्ति की प्रेरणा देते हैं।

श्री अग्रवाल ने इस अवसर पर 'बढ़ते कदम' द्वारा स्थापित की जाने वाली मरचुरी के भवन के लिए दो लाख रूपए की सहायता देने की घोषणा की। कार्यक्रम के प्रारंभ में समाज सेवी संस्था 'बढ़ते कदम' के श्री अनिल गुरूबक्षाणी ने संस्था के उद्देश्यों, कार्यों और उपलब्धियों की विस्तार से जानकारी दी। श्री गुरूबक्षाणी ने बताया कि ढ़ाई साल में संस्था के प्रयासों से 140 नेत्रदान और 4 शरीर दान किए गए। उन्होंने बताया कि 'बढ़ते कदम' के रोटी, कपड़ा और दवा दान अभियान के अंतर्गत कार्यक्रम में निर्धन व्यक्तियों को कपड़े वितरित किए गए हैं। संस्था द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य में निजी क्षेत्र में प्रथम मरचुरी स्थापित करने का निर्णय लिया है। कार्यक्रम की अध्यक्षता पार्षद श्री गोपी चंदनानी ने की। देशभक्ति गीतों पर आधारित कार्यक्रम भी इस अवसर पर आयोजित किया गया।

इस कार्यक्रम में जेसीस के राष्ट्रीय प्रशिक्षक श्री राजेश अग्रवाल, पार्षदगण सर्वश्री कचरू साहू , संतोष सारथी, मित्रसेन धीमान सहित श्री प्रेमप्रकाश मंधानी, श्री हीरालाल पंजवानी और कटोरा तालाब क्षेत्र के गणमान्य नागरिक तथा समाज सेवी संस्था बढ़ते कदम के सदस्य बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

हिन्दी