बारिश

छत्तीसगढ़ मानसून बारिश

धान की कम अवधि की किस्में ही लगाएं किसान
छत्‍तीसगढ़ रायपुर, 02 जुलाई 2009 - छत्तीसगढ़ में मानसून की बारिश होते ही खेतों में बीज बोवाई का काम शुरू हो गया है। प्रदेश की प्रमुख फसल धान की खुर्रा बोनी के साथ-साथ रोपा पध्दति और मेडागास्कर विधि से खेती के लिए किसानों ने नर्सरी लगाना भी शुरू कर दिया है।

मानसून में देरी और वर्षा की अनिश्चित्ता को ध्यान में रखते हुए कृषि विभाग के अधिकारियों ने किसानों को किसी भी स्थिति में लंबी अवधि की धान की किस्में जैसे-स्वर्णा, एम.टी.यू.-1001, मासूरी आदि नहीं लगाने की सलाह दी है।