पत्रकार कार्यशाला स्वच्छ भारत अभियान पर

पत्रकारों की हुई स्वच्छ भारत पर वर्कशाप सीईओ ने कहा कि मीडिया का जागरूकता अभियान में अहम योगदान

दंतेवाड़ा, 8 अप्रैल 2016 - स्वच्छ भारत पर पत्रकारों की वर्कशाप में सीईओ श्री जे.श्रीराम ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान को लेकर जिले में काफी कार्य किए गए हैं और इसमें जिले में फिलहाल 27 गाँवों को खुले में शौच से मुक्त अभियान करने का लक्ष्य रखा गया है इसमें 9 गाँवों को खुले में शौच से मुक्त करा लिया गया है। इस वर्ष के अंत तक शेष लक्ष्य पूरा कर लिया जाएगा। सीईओ ने कहा कि दंतेवाड़ा में स्वच्छ भारत अभियान को मिली सफलता अभूतपूर्व है लोग स्वत:स्फूर्त शौचालय बना रहे हैं। गीदम सबसे पहला खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) जिला होगा। इस अवसर पर पत्रकार बंधुओं ने भी अपने विचार रखे। श्री विनोद सिंह ने कहा कि खुले में शौच मुक्त अभियान के साथ ही स्वच्छता संबंधी अन्य आदतों के बारे में प्रचार-प्रसार की जरूरत है, साथ ही यह भी बच्चों को भी इस अभियान से जोड़ा जाए। श्री शकील अहमद ने कहा कि स्वच्छता अभियान संपूर्ण अभियान है और शौचालय निर्माण केवल इसका हिस्सा है। छोटी-छोटी आदतों के संबंध में लोगों को जागरूक किया जाए, जैसे खाने के पहले हाथ धोने का नियम आदि। इन छोटे उपायों के संबंध में लोगों को जागरूक कर ही हम स्वच्छता अभियान के उद्देश्यों को पूरा कर पाएंगे। सुश्री अंबु शर्मा ने कहा कि शौचालय निर्माण पर फोकस करना बहुत जरूरी है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता संबंधी अन्य चीजों की जागरूकता मसलन कचरा प्रबंधन आदि पर कार्य किया जाना बहुत जरूरी है। जब तक गंदे जल की निस्तारी का सही सिस्टम हर गाँव में नहीं बनाया जाएगा, ग्रामीण क्षेत्रों में रोगों से निपटना कठिन होगा। श्री बप्पी राय ने स्वीडन से आए अपने दोस्तों का अनुभव साझा करते हुए कहा कि जब वे अपने स्वीडन के साथियों के साथ बैलाडीला की पहाडयि़ों में पिकनिक मनाने गए तो उन्होंने देखा कि वे साथी खाने के फेंके हुए पैकेट उठाकर अपने बैग में रख रहे हैं। वहाँ स्वच्छता एक मानसिकता के रूप में है। हम भी ऐसे जागरूकता अभियानों से स्वच्छता को अपने अवचेतन मन और आदतों में शामिल कर सकते हैं। श्री यशवंत रामटेके ने शौचालयों के ड्रेनेज से संबंधी तकनीकी बातों की ओर स्वच्छ भारत अभियान से जुड़े सदस्यों का ध्यान खींचा। श्री गजानंद ठाकुर, श्री योगेन्द्र ठाकुर, श्री मुकेश श्रीवास ने भी अपनी बात इस अवसर पर रखी। इस अवसर पर स्वच्छ भारत के नोडल अधिकारी श्री शेख बशीर, समन्वयक श्री देवेंद्र झाड़ी, जिला सलाहकार सुश्री मीनाक्षी नाग, सीएलटीएस प्रभारी श्री नेमो यादव, सीएलटीएस के सदस्य श्री कमलू ताती, कीर्ति देवांगन, उर्मिला, सुंदर लाल पुजारी आदि उपस्थित थे। गाँवों में शौचालय निर्माण के अनुभव के बारे में श्री महादेव नेताम, श्री बलराम कश्यप ने भी जानकारी दी।

हिन्दी