पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती समारोह आयोजन

पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती समारोह के दौरान प्रदेश भर में आयोजित किए जाएंगे अनेक कार्यक्रम : पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन दर्शन और कृतित्व पर केन्द्रित कार्यक्रमों का होगा आयोजन

गरीबों के कल्याण सेे संबंधित योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने 15 से 25 सितंबर तक आयोजित किए जाएंगे विशेष कार्यक्रम

गांवों में 25 सितम्बर को आयोजित की जाएगी विशेष ग्राम सभाएं

रायपुर, 08 अगस्त 2017 - पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय के दर्शन और गरीबों के कल्याण से संबंधित उनके विचारों तथा गरीबों के कल्याण से संबंधित शासकीय योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए 15 से 25 सितम्बर तक प्रदेश भर में विशेष आयोजन किए जाएंगे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज यहां उनके निवास पर आयोजित पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती समारोह के आयोजन के लिए गठित राज्य स्तरीय आयोजन समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। इस दौरान 25 सितम्बर को गांवों में विशेष ग्राम सभाओं का आयोजन भी किया जाएगा, जिसमें पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन और उनके अंत्योदय दर्शन की जानकारी ग्रामीणों को दी जाएगी। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चंद्राकर, उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय, कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, खेल मंत्री श्री भईया लाल राजवाड़े बैठक में उपस्थित थे। 
बैठक में जन्म शताब्दी समारोह के आयोजन के लिए मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड की अध्यक्षता में विभिन्न विभागों के सचिवों की समन्वय समिति का गठन करने का निर्णय लिया गया।  यह समिति विभिन्न विभागों के मध्य समन्वय स्थापित करेगी और आयोजन की तैयारियों के संबंध में समय-समय पर अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में गठित राज्य स्तरीय मंत्रियों की समिति को प्रस्तुत करेगी। मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह के दौरान प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी उन्मूलन से संबंधित योजनाओं के संबंध में जन-जागरूकता पैदा करने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार अभियान चलाया जाए। ग्रामीण युवाओं को समाज में रचनात्मक और सृजनात्मक भूमिका में सक्रिय भूमिका निभाने के लिए युवाओं को क्षमता विकास प्रशिक्षण प्रदान किया जाए। शैक्षणिक संस्थाओं में पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी के माध्यम से अंत्योदय के संबंध में उनके विचारों और गरीबों के कल्याण से संबंधित योजनाओं की जानकारी दी जाए। इसके लिए जन्म शताब्दी समारोह के दौरान लोक संगीत, नृत्य और नाटक की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएं। उन्होंने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी पर आधारित निबंध, वाद-विवाद और चित्रकला प्रतियोगिताओं का शैक्षणिक संस्थाओं में आयोजन किया जाए। बैठक में निर्णय लिया गया कि जन्म शताब्दी समारोह के आयोजन के दौरान विकासखण्ड स्तर पर खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। शैक्षणिक संस्थाओं में पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जीवन दर्शन और उनके कृतित्व पर केन्द्रित पुस्तकों का वितरण किया जाएगा। इस दौरान उन पर केन्द्रित लाईट एण्ड साउण्ड शो का आयोजन भी किया जाएगा। जन्म शताब्दी समारोह के आयोजन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, संस्कृति विभाग, उच्च शिक्षा विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, खेल एवं युवा कल्याण विभाग और जनसम्पर्क विभाग की सक्रिय भूमिका होगी। बैठक में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री एम.के. राउत, जनसम्पर्क विभाग के संयुक्त सचिव श्री राजेश सुकुमार टोप्पो, मुख्यमंत्री के संयुक्त सचिव श्री मुकेश बंसल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के आयुक्त श्री एस.के. जायसवाल भी उपस्थित थे। 

हिन्दी