पंच-निर्णय तंत्र आधार पत्रों पर टिपण्णियां आमंत्रित

भारत में 7 अप्रैल 2017 तक पंच-निर्णय तंत्र के संस्‍थागतकरण की समीक्षा करने के लिए उच्‍च स्‍तरीय समिति के आधार पत्रों पर टिपण्णियां आमंत्रित 

भारत सरकार ने वाणिज्यिक विवादों के लिए एक वरीयतापूर्ण विवाद निपटान तंत्र के रूप में पंच निर्णय को बढ़ावा देने की जरुरत पर बल दिया है। इसके अनुरूप, सर्वोच्‍च्‍ न्‍यायालय के सेवानिवृत न्‍यायाधीश जस्टिस बी एन श्रीकृष्‍णा की अध्‍यक्षता में पंच-निर्णय तंत्र के संस्‍थागतकरण की समीक्षा करने तथा एक रिपोर्ट प्रस्‍तुत करने के लिए 29 दिसंबर 2016 को एक उच्‍च स्‍तरीय समिति का गठन किया गया है।

समिति ने एक आधार पत्र तैयार किया है जोकि न्‍याय एवं विधि मंत्रालय की वेबसाइट http://legalaffairs.gov.in/admin3 पर उपलब्‍ध है।
 
आधार पत्र में कुछ महत्‍वपूर्ण प्रश्‍न पूछे गए हैं कि किस प्रकार भारत को संस्‍थागत पंच निर्णय का केंद्र बनाया जा सकता है। आधार पत्र में इसकी समीक्षा करने का प्रयास भी किया गया है कि क्‍यों भारत में कई वर्तमान पंच निर्णय संस्‍थान कारगर तरीके से काम नहीं कर रहे हैं। इस उद्देश्‍य के लिए समिति ने दो प्रश्‍नावलियां तैयार की हैं जो क) भारत में पंच निर्णय संस्‍थानों एवं ख) पक्षों, उनके आंतरिक सलाहकारों, अधिवक्‍ताओं एवं पंचों जैसे पंच निर्णय के हितधारकों को संबोधित हैं। प्रश्‍नावली  आधार पत्र के अनुबंध-1 एवं 2 से निर्मित हैं।
इसके अतिरिक्‍त, आधार पत्र में दुनिया भर के कुछ सर्वाधिक लो‍कप्रिय पंच निर्णय संस्‍थानों का अध्‍ययन किया गया है जिससे कि सर्वश्रेष्‍ठ अंतरराष्‍ट्रीय प्रचलनों की पहचान की जा सके। इस आधार पर, आधार पत्र में भारतीय पंच निर्णय परिदृश्‍य में सुधार के लिए क्षेत्रों की पहचान की गई है।
समिति इस आधार पत्र में दिए गए सुझावों तथा इसके साथ ही भारत में संस्‍थागत पंच निर्णय को मजबूत बनाने को लेकर दिए गए सुझावों पर सार्वजनिक टिपण्णियां आमंत्रित करती है। सभी रिस्‍पांस 25 टाइप किए गए पेजों तक सीमित होने  चाहिए। टिपण्णियां ई मेल द्वारा 7 अप्रैल, 2017  को या इससे पूर्व hlcarbitration@gmail.com पर भेजी जा सकती है।
इसके अतिरिक्‍त, भारत में वर्तमान में मौजूद सभी पंच निर्णय संस्‍थानों से अनुबंध-1 में संलग्‍न प्रश्‍नावली को भरने एवं संपूर्ण प्रश्‍नावली को 7 अप्रैल , 2017  को या इससे पूर्व hlcarbitration@gmail.com पर भेजने का आग्रह किया जाता है। इसके विकल्‍प के रूप में, प्रश्‍नावली को इस लिंक पर एक गूगल फॉर्म के रूप में भरा जा सकता है।
https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSeI-7n4DMChhsVzMh9NZIgYu20fww22lt5-8mwJbA3aZbz6Mg/viewform?usp=sf_link
 
सभी पक्षों, आंतरिक सलाहकारों, अधिवक्‍ताओं एवं पंचों से इस आधार पत्र के अनुबंध-2  में संलग्‍न प्रश्‍नावली को भरने एवं संपूर्ण प्रश्‍नावली को 7 अप्रैल , 2017  को या इससे पूर्व hlcarbitration@gmail.com पर भेजने का आग्रह किया जाता है। इसके विकल्‍प के रूप में, प्रश्‍नावली को इस लिंक पर एक गूगल फॉर्म के रूप में भरा जा सकता है।
https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSdOP2TquwPKF-6M7ZPjy1LlOnMQPawTu3fU71fk4UeSFFLQhQ/viewform?usp=sf_link

हिन्दी