नगर निगम द्वारा परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह का सम्मान

अगर आपमें दृढनिश्चय है और ऊपर वाले पर भरोसा है तो कभी भी नाकामयाबी का मुंह नहीं देखना पडेगा- कैप्टन बाना सिंह परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह का सम्मान करना नगर निगम के लिए गौरवमयी क्षण
कैप्टन बाना सिंह रियल लाईफ के हीरो है -  कैप्टन सिंह ने कहा कि  वहां सेना की असली लडाई विपरीत मौसम के साथ होती है। जब हमने पहले दिन सुबह आठ बजे अभियान प्रारंभ किया तो बर्फबारी की विपरीत परिस्थितियों में हम अगले दिन सुबह चार बजे तक मात्र 150 मीटर आगे बढ पाये। वहां कोई संसाधन उपलब्ध नहीं होता । हमारी सेना के कैप्टन अनिल सिंह तब तीन दिनों के प्रयासों से चावल आदि वहां लेकर पहुंचे थे। तब वहां व्यवस्था कर हम सबने पानी आदि की व्यवस्था कर ली थी। उन्होने कहा कि सेना का मनोबल ऊंचा था क्यो कि हमारे कमांडर में गजब का जोश था। आप किसी भी मोर्चे पर कही भी जाये मनोबल ऊंचा बनाये रखना सबसे जरूरी बात होती है। कमांडर साहब ने हममे से प्रत्येक सैनिक का अभियान में सुख दुःख खाना पीना से लेकर एक - एक बात की पूरी गंभीर चिंता की । उन्होने कहा कि रायपुर के राजीव पांडे जी दस जवानों के साथ इलाके में आगे बढे तो इस अभियान में वे देश के लिये वीर गति को प्राप्त हो गये इससे पूरी सेना में ष्शत्रु सेना से इसका बदला लेने की गजब की जोश की भावना निर्मित हो गयी । जिसने अभियान की सफलता में सहायता गजब के जोश की भावना के जरिए पहुंचाई। अभियान में सफल होकर हम सब देश के लिए सफलता अर्जित करने पर गौरवान्वित हुए । कैप्टन बाना सिंह ने सम्मान के लिए नगर पालिक निगम रायपुर के समूचे परिवार को धन्यवाद देते हुए आभार माना। 


    रायपुर- नगर पालिक निगम रायपुर ने निगम मुख्यालय व्हाईट हाउस के सामान्य सभा सभागार में देश के एक मात्र जीवित परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह का राजधानी रायपुर आगमन पर सम्मान किया।

  इस अवसर पर परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह ने कहा कि अगर आप में दृढनिश्चय है और ऊपर वाले पर भरोसा है तो कभी भी नाकामयाबी का मुंह नही देखना पडेगा। ऐसे दृढनिष्चय को लेकर भारतीय सेना ने सियाचिन ग्लैषियर की कठिन परिस्थितियों में सैन्य अभियान काप्रारंभ किया । हम सबने यही निष्चय किया कि दृढनिष्चय है सच्चाई है तो कही भी जाना पडेगा देश पर हम आंच नहीं आने देंगे। हमारा देश किसी के साथ युद्ध नहंी करता पर यदि किसी ने भी हमसे युद्ध किया तो हम उसका डटकर मुकाबला करेंगे। कैप्टन बाना सिंह ने सियाचिन की अत्यंत कठिन परिस्थितियों का जिक्र करते हुए कहा कि वहां मौसम खुलने पर ही आगे बढ सकना व्यवहारिक रूप से संभव रहता है।

महापौर डा. किरणमयी नायक ने सभापति श्री संजय श्रीवास्तव, नेता प्रतिपक्श श्री सुभाशचंद्र तिवारी, आयुक्त श्री तारन प्रकाश सिन्ह, संस्कृति विभाग अध्यक्श श्री जगदीश आहूजा, एमआईसी सदस्य श्रीमती आषा इजराईल जोसेफ, सर्वश्री मनोज कंदोई, प्रमोद दुबे, अनवर हुसैन, ज्ञानेश ष्शर्मा, राकेश धोतरे, जोन पांच अध्यक्श श्रीमती अनामिका साहू, पार्शद श्री समीर अख्तर, श्री माधो साहू, श्री परदेषी राम साहू, श्रीमती सरिता वर्मा, एल्डरमेन श्री कमल हरपाल, रायपुर जिला पंचायत सदस्य श्रीमती मंजू चंद्रहास नायक, निगम सचिव व संस्कृति विभाग प्रभारी अधिकारी डा. प्रीतम मिश्रा, जोन एक कमिष्नर श्री विजय पांडे सहित बडी संख्या में उपस्थित निगम अधिकारियों एवं कर्मचारियों की उपस्थिति एवं रायपुर के गौरव ष्शहीद राजीव पांडे के भाई श्री सुभाश पांडे एवं छत्तीसगढ और उडीसा सब एरिया से आये कैप्टन मनोज पाठक की विषेश उपस्थिति में परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह का सम्मान उन्हे रायपुर नगर निगम कीओर से श्रीफल ष्षाल एवं स्मृति चिन्ह देकर किया। इसके पूर्व कैप्टन मनोज पाठक के निर्देशन में छत्तीसगढ और उडीसा सबएरिया द्वारा परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह की सियाचिन ग्लैषियर के सैन्य अभियान की सफलता पर आधारित तैयार फिल्म का प्रदर्शन निगम सामान्य सभा सभागार में किया गया। 
       
               इस अवसर पर महापौर डा. नायक ने कैप्टन सिंह का सम्मान करते हुए कहा कि उनका सम्मान करने से पूरा नगर पालिक निगम रायपुर गौरवान्वित हुआ है। सियाचिन ग्लैषियर की अत्यंत दुर्गम सैन्य चोटी में अत्यंत विपरीत तापमान व मौसम की कठिन परिस्थितियों में समुद्र तल से लगभग 7 हजार मीटर ऊंचाई पर और माईनस 40 डिग्री के तापमान पर जैकेट्स आदि कपडों के वजन एवं पिस्तौल सहित ग्रेनेड आदि लेकर एक आम आदमी तो वैसे विपरीत वातावरण में एक कदम भी ष्षायद चलने की कल्पना भी नहीं कर सकता । समुद्र तल से 35 सौ मीटर ऊंचाई पर आक्सीजन बहुत कम उपलब्ध हो पाती है और वैसे में 90 डिग्री की चडाई करना लगभग अकल्पनीय जैसा माहौल देता है।वैसे में यह सोचकर ही ष्शरीर का रक्त संचार यहां मात्र वीरता की फिल्म देखकर बड जाता है कि किस जुनून से देश के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करके सैनिक देश की सुरक्षा के लिए लडते है। देश के एक मात्र जीवित अवस्था में परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह देश के गौरव है । उनका सम्मान करने मात्र से ही गौरव नगर निगम का बढ गया है। 


        महापौर डा. नायक ने इस अवसर पर कैप्टन बाना सिंह का सम्मान करते हुए कहा कि ष्शहीद राजीव पांडे एवं शहीद पंकज विक्रम रायपुर के गौरव है । और यह नगर निगम के लिए प्रसन्नता की बात है कि यहा के दो वीर गौरव सपूतो के नाम पर रायपुर निगम क्षेत्र के दो वार्डो के नाम रखे गये है एवं उनकी प्रेरणा ष्शक्ति देने वाली प्रतिमाओं के पवित्र स्थलों पर उनकी गौरवगाथा लिखने का कार्य नगर निगम संस्कृति विभाग के द्वारा किया जा रहा हैं ताकि उनके जीवन सें राजधानीवासियों को प्रेरणा ष्शक्ति प्राप्त हो सके। महापौर ने कहा कि सियाचिन ग्लैषियर में बर्फीले तूफान की अत्यंत विशम परिस्थितियों में जिस प्रकार हमारे वीर सैनिक जन मन गण राष्ट्रगान करते है उनके उस जज्बे मात्र को फिल्म में देखकर ही देशभक्ति के भाव जागृत हो जाते है। ऐसे ही वीर सैनिको की सेवाओं के चलते हम सब यहंा चैन की सांस लेकर आराम से सो पाते है। परम वीर चक्र विजेता कैप्टन सिंह का सम्मान करने के अवसर में सम्मिलित होना यहां उपस्थित प्रत्येक नागरिक के जीवन में एक विषिष्ट उपलब्धि एवं गौरवषाली अवसर है। 


        आयुक्त श्री सिन्हा ने कहा कि परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह वास्तव में रियल लाईफ के हीरो है। वे सियाचिन ग्लैषियर के रिलय हीरो है। उनके सम्मान में सैन्य चोटी को बाना दिल या बाना फिट कहा जाता है। भारतीय सेना के जाबांजो के निरंतरता से सतत जारी अदम्य साहस के सुफल स्वरूप  भारत को विष्व के सबसे ष्शक्तिषाली देषों में सम्मिलित किया जाता है। उन्होने कहा कि कैप्टन बाना सिंह एवं उनके सरीखे वीर सपूतों के पराक्रम एवं अदम्य साहस से सदैव चिर काल तक प्रत्येक देशवासी को देश के लिए अपना जीवन सर्वस्व करने की प्रेरणाशक्ति प्राप्त होती रहेगी। 
         आयुक्त श्री सिन्हा ने कहा कि 1971 के पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध में देश को मिली ष्षानदार विजय एवं बांग्लादेश के स्वंतत्र राष्ट्र के रूप  में हुए निर्माण एवं एक साथ 90 हजार पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा जनरल नियाजी के साथ घुटने टेककर भारतीय सेना के समक्श किये गये आत्मसमर्पण की घटना दुनिया के इतिहास में देश के लिए गौरवषाली व महत्वपूर्ण उपलब्धि है।  उन्होने विष्वास व्यक्त किया कि 16 दिसम्बर को नई राजधानी में हाफ मैराथन के आयोजन में परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह की विषेश उपस्थिति निष्चित तौर पर नागरिको के लिए प्रेरणास्पद होगी। 
         सभापति श्री श्रीवास्तव ने कहा कि कैप्टन बाना सिंह की अगुवाई में 16 दिसम्बर के नई राजधानी में होने जा रहे हाफ मैराथन से रायपुर सहित पूरे राज्य के युवाओं के मन में नई जागृति पैदा होगी। उन्हे कहा कि कैप्टन बाना सिंह का नगर निगम रायपुर को सम्मान करने पर बल की प्राप्ति हुई है एवं काम करने की ष्शक्ति मिली है। उनके आगमन एवं प्रेरणादायी नेतृत्व से सबको सम्बल मिला है। उन्होने कहा कि ष्शहीद राजीव पांडे, ष्शहीद पंकज विक्रम कैप्टन बाना सिंह जैसे महान वीर सपूतो के कारण अखण्ड भारत की परिकल्पना सहज रूप से सदैव साकार रहती है एवं देश चीन, अरूणाचल प्रदेश, बांग्लादेश के घुसफैटियों की समस्यां के कठिन दौर की चुनौतियों का सफलता पूर्वक मुकाबला कर रहा है। 1857 की क्रांति आजादी की लडाई चीन व पाकिस्तान के साथ युद्ध की सफलता से हमारे गौरवषाली इतिहास से हम सबको प्रेरणा हमेषा मिलती है एवं इससे देश का भविष्य महान बनता है। 
        नेता प्रतिपक्ष श्री तिवारी ने कहा कि  परमवीर चक्र विजेता कैप्टन बाना सिंह का सम्मान पूरे नगर निगम का सौभाग्य है । सियाचिन ग्लैषियर की कठिनतम परिस्थितियों में अपने जान की बाजी लगाकर देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने के कैप्टन सिंह के अदभूत जज्बे की आम आदमी फिल्म देखकर केवल कल्पना ही कर सकता है। उन्होने रायपुर के गौरव ष्शहीद राजीव पांडे की ष्शहादत का नमन करते हुए कहा कि सियाचिन ग्लैषियर में देश के लिए रास्ता बनाने के कार्य में ष्शहीद राजीव पांडे वीर गति को प्राप्त हुए। वे हमेषा प्रेरणादायी ष्शक्ति बने रहेंगे। कार्यक्रम का संचालन निगम सचिव डा. मिश्रा व अंत में आभार प्रदर्शन संस्कृति विभाग अध्यक्श श्री आहूजा ने किया।

 

हिन्दी