नक्सल

भारत सरकार की नक्सल समस्या का अंत हेतु बैठक

नक्सलवाद का अंत निकट: डॉ. रमन सिंह : मुख्यमंत्री शामिल हुए नई दिल्ली की उच्च स्तरीय बैठक में
छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के त्वरित विकास के लिए डॉ. रमन सिंह ने दिए कई सुझाव

जिला स्तरीय यूनिफाईड कमांड के गठन की जरूरत

मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में राज्य यूनिफाईड कमांड की बैठक : डॉ. रमन सिंह ने दिया सुझाव: नक्सल प्रभावित इलाकों में जिला स्तर पर भी बने यूनिफाईड कमांड

सुकमा-बीजापुर में केन्द्र और राज्य के सुरक्षा बलों के लिए संयुक्त प्रशिक्षण केन्द्र का भी प्रस्ताव, डॉ. रमन सिंह ने नक्सल पीड़ित इलाकों में सुरक्षा के साथ जन-कल्याणकारी योजनाओं के जरिये विकास पर दिया बल

नक्सल पीड़ित जिले के गांव में उतरा मुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर

मुख्यमंत्री ने दी ग्रामीणों के घरों में अपनी दस्तक

राजोबाई और मितानिन राधा सोरी के घर पहुंचे मुख्यमंत्री
अमराई की छांव में लगी डॉ. रमन की चौपाल
ग्रामीणों को सामुदायिक भवनों और सिंचाई कुंओ की सौगात

शबरी नदी दोरनापाल में आधा किलोमीटर लम्बे पुल की सौगात

लोक सुराज अभियान 2017 : नक्सल पीड़ित सुकमा जिले को मिली नये पुल की सौगात: मुख्यमंत्री ने किया लोकार्पण

छत्तीसगढ़-ओड़िशा के बीच सुगम होगा यातायात, तमाम कठिन चुनौतियों के बीच, ग्यारह साल में बना 500 मीटर लम्बा सेतु

रायपुर, 03 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के नक्सल हिंसा पीड़ित सुकमा जिले की जनता को आज शबरी नदी में दोरनापाल के पास लगभग आधा किलोमीटर लम्बे पुल की सौगात दी। दोरनापाल-पोड़िया-कालीमेला मार्ग पर निर्मित 500 मीटर लम्बा यह सेतु छत्तीसगढ़ और ओड़िशा राज्यों के बीच सुगम यातायात के लिए सड़क सम्पर्क का एक महत्वपूर्ण माध्यम बनेगा। 

शबरी नदी के किनारे संचालित होगी सौर सुजला योजना

नक्सल पीड़ित क्षेत्रों में योजनाओं में ढिलाई बर्दाश्त नहीं होगी: डॉ. रमन सिंह, राज्य के अंतिम छोर के जिले में मुख्यमंत्री की बैठक
प्रधानमंत्री आवास योजना के लक्ष्य में तीन गुना वृद्धि

सुकमा जिले में तीन हजार परिवारों के बनेंगे पक्के मकान, शबरी नदी के किनारे संचालित होगी सौर सुजला योजना: किसानों के समूह बनाकर दिए जाएंगे सोलर पम्प

नक्सल खून-खराबे की कड़ी निन्दा की

रायपुर, 18 जून 2008 मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग में नक्सलवादियों द्वारा किए जा रहे खून-खराबे की कड़ी निन्दा की है। डॉ. सिंह ने कहा है कि नक्सली आतंक, अपहरण, हिंसा और हत्या के बल पर अपने दिशाहीन विचारों को सही साबित करने की कोशिश करते हुए जनता और सुरक्षा बलो पर दबाव डालना चाहते हैं, लेकिन उनकी यह कोशिश सफल नही होगी।

नक्सल प्रभावित इलाकों में सौर ऊर्जा से भी प्रकाश व्यवस्था

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित आदिवासी बहुल बस्तर अंचल के दूर-दराज के इलाकों के अनेक स्थानों पर सौर ऊर्जा प्रणाली पर आधारित फोटो वोल्टाईक संयंत्र लगा कर भी प्रकाश की व्यवस्था की जा रही है। पिछले दो वर्षो में नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारों के लिए लगाए गए राहत शिविरों सहित विभिन्न पुलिस थानों और पुलिस कैम्पों में एक करोड़ 45 लाख रूपये की लागत से 44 स्थलों में 480 सोलर स्ट्रीट लाईट संयंत्र स्थापित करके प्रकाश व्यवस्था की गयी है।