धान का कटोरा

कस्टम मिलिंग के लिए मिलर्स का पंजीयन अनिवार्य

छत्‍तीसगढ़ में 16 लाख मीटरिक टन धान की कस्टम मिलिंग

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के चावल की रिसाइकलिंग तथा धान की मीलिंग में अनियमितता को रोकने के लिए राज्य में इस वर्ष कस्टम मिलिंग की समूची व्यवस्था का कम्प्यूटरीकरण किया गया है। कस्टम मिलिंग के लिए मिलर्स का पंजीयन अनिवार्य है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा सम्पूर्ण धान की कस्टम मिलिंग 31 मार्च तक कराने के निर्देश दिए जा चुके हैं। राज्य में अब तक 15 लाख 99 हजार 344 मीटरिक टन धान की कस्टम मिलिंग की जा चुकी है।