दंतेवाड़ा जैविक खेती प्रसंस्करण केन्द्र

मुख्यमंत्री ने किया जैविक खेती प्रसंस्करण केन्द्र का शुभारंभ

21/09/2017
गौसंवर्धन केन्द्र और आईआईटी नई दिल्ली के साथ एमओयू

रायपुर, 21 सितम्बर 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज शारदीय नवरात्रि के अवसर पर जिला मुख्यालय दंतेवाड़ा के प्रवास के दौरान वहां जैविक खेती प्रसंस्करण केन्द्र का शुभारंभ किया। उल्लेखनीय है कि राज्य के इस नक्सल हिंसा पीडि़त जिले में प्रदेश सरकार द्वारा जैविक खाद पर आधारित खेती को बढ़ावा देने के लिए ’मोचो बाड़ी परियोजना’ शुरू की गई है। जिले के चार हजार से ज्यादा किसान जैविक खेती करने लगे। उनकी उपज के प्रसंस्करण के लिए यह केन्द्र शुरू किया गया है, जहां जैविक खेती से मिलने वाली विभिन्न प्रकार की फसलों से तरह-तरह की खाद्य वस्तुएं तैयार की जाएंगी।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के समक्ष पंडित दीनदयाल उपाध्याय गौ संवर्धन एवं शोध केन्द्र के साथ जिला प्रशासन द्वारा एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर भी हस्ताक्षर किए गए। इस एमओयू के अनुसार गौसंवर्धन और शोध केन्द्र द्वारा जिले के किसानों और स्थानीय युवाओं को जैविक खेती की उपजों के प्रसंस्करण के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। मुख्यमंत्री के समक्ष आज ही दंतेवाड़ा गौ विज्ञान केन्द्र और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) नई दिल्ली के बीच भी एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। इस समझौते के अनुसार गौ विज्ञान केन्द्र दंतेवाड़ा में बनने वाले उत्पादों को बढ़ावा देने के साथ-साथ वैज्ञानिक शोध को भी प्रोत्साहन दिया जाएगा। एमओयू पर आईआईटी नई दिल्ली के प्रोफेसर डॉ. रत्नेश और कलेक्टर दंतेवाड़ा श्री सौरभ कुमार ने हस्ताक्षर किए। दंतेवाड़ा जिले की 50 ग्राम पंचायतों में उन्नत भारत अभियान चलाया जाएगा और लगभग ढाई करोड़ रूपए के विकास के कार्य भी किए जाएंगे।

हिन्दी