त्रिवेणी संग्रहालय

समझ में आया 'अंधेरे में' कविता का मर्म: डॉ. नामवर सिंह

डॉ. नामवर सिंह ने किया मुक्तिबोध स्मारक और त्रिवेणी संग्रहालय का अवलोकन | रायपुर, 18 जून 2008 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के विशेष आमंत्रण पर हिन्दी के सुप्रसिध्द साहित्यकार और समीक्षक डॉ. नामवर सिंह ने आज राजनांदगांव स्थित मुक्तिबोध स्मारक-त्रिवेणी संग्रहालय का अवलोकन किया। उन्होंने संग्रहालय की अभिमत पंजी में लिखा कि इस ऐतिहासिक स्थल को देखने के बाद मुझे मुक्तिबोध जी की अमर कविता 'अंधेरे में' का मर्म समझ में आया। उल्लेखनीय है कि यह स्मारक और संग्रहालय देश के तीन दिग्गज साहित्यकारों स्वर्गीय श्री गजानन माधव मुक्तिबोध, पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी और स्वर्गीय डॉ.