जल संसाधन

जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी

06 अप्रैल, 2017 को समाप्त सप्ताह के दौरान देश के 91 प्रमुख जलाशयों में 50.632 बीसीएम (अरब घन मीटर) जल का संग्रहण आंका गया। यह इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 32 प्रतिशत है। यह पिछले वर्ष की इसी अवधि के कुल संग्रहण का 129 प्रतिशत तथा पिछले दस वर्षों के औसत जल संग्रहण का 105 प्रतिशत है।

इन 91 जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता 157.799 बीसीएम है, जो समग्र रूप से देश की अनुमानित कुल जल संग्रहण क्षमता 253.388 बीसीएम का लगभग 62 प्रतिशत है। इन 91 जलाशयों में से 37 जलाशय ऐसे हैं जो 60 मेगावाट से अधिक की स्थापित क्षमता के साथ पनबिजली संबंधी लाभ देते हैं।

भारत में औसत वार्षिक जल संसाधन क्षमता का मूल्यांकन

देश में सतही और उप-सतही स्रोतों से जल की उपलब्धता का समुचित मूल्यांकन उचित आयोजना, विकास और प्रबंधन का आधार है । जल संसाधनों की आयोजना, विकास और प्रबंधन को बहु-क्षेत्रीय, बहु-विभागीय और भागीदारीपूर्ण दृष्टिकोण के साथ ही राष्ट्रीय जल नीति, 2002 के अनुसार समन्वित गुणवत्ता, संख्या और पर्यावरण संबंधी पहलुओं पर आधारित एक जलविज्ञान इकाई के आधार पर किया जाना चाहिए । तदनुसार, नदी घाटी पर आधारित जल संसाधन मूल्यांकन किया जा रहा है ।