छत्तीसगढ़ खेल मड़ई 2007 शुरू

Chhattisgarh Khel Madai 2007 -

परम्परागत लोक खेलों की राज्यस्तरीय प्रतियोगिता
तुवे लंगरची, भिर्री, फुगड़ी, गोटा तथा गेंगे
लोक खेल तकनीकी और कौशल की दृष्टि से उत्कृष्ट
'लोक खेल नियमावली-एक पुनरीक्षण'  का विमोचन
कलाकारों और खिलाड़ियों को प्रतिभा प्रदर्शन के लिए भरपूर मौका
छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति और खेलों के विकास को एक नई दिशा

छत्तीसगढ़ खेल मड़ई 2007 का आयोजन पुधव मंच और रायपुर जिला लोक खेल एसोसिएशन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है। इस खेल मड़ई में लोक खेल तुवे लंगरची, भिर्री, फुगड़ी, गोटा तथा गेंगे में चार स्कूलों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।

रायपुर, 28 सितंबर 2007 -  खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज यहां टिकरापारा में आयोजित छत्तीसगढ़ खेल मड़ई 2007 का उद्धाटन करते हुए छत्तीसगढ़ के परम्परागत लोक खेलों की राज्य स्तरीय प्रतियोगिता आयोजित करने की मंशा जाहिर की है। श्री अग्रवाल ने खेल मंडई 2007 के आयोजकों को उपरोक्त प्रतियोगिता आयोजित करने का सुझाव देते हुए राज्य शासन की ओर से हरसंभव सहयोग देने का आश्वासन दिया। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ खेल मड़ई 2007 का आयोजन पुधव मंच और रायपुर जिला लोक खेल एसोसिएशन द्वारा संयुक्त रूप से किया गया है। इस खेल मड़ई में लोक खेल तुवे लंगरची, भिर्री, फुगड़ी, गोटा तथा गेंगे में चार स्कूलों के खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।

       खेल मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने उद्धाटन समारोह में छत्तीसगढ़ की संस्कृति और मिट्टी से जुड़े हुए लोक खेलों की लोकप्रियता बढ़ाने के लिए व्यापक प्रचार-प्रसार, प्रशिक्षण तथा विभिन्न स्तरों पर प्रतियोगिताएं आयोजित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि हमारे लोक खेल तकनीकी और कौशल की दृष्टि से उत्कृष्ट हैं। इन खेलों से खिलाड़ियों का समुचित शारीरिक और मानसिक विकास होता है। ये खेल कम खर्च में ही बेहतर ढंग से खेले जा सकते हैं। श्री अग्रवाल ने इस अवसर पर अपनी मंशा के अनुरूप लोक खेलों की राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के आयोजन के लिए खेल मंडई 2007 के आयोजकों को प्रारंभिक तैयारी करने विधायक निधि से दस हजार रूपये स्वीकृत की। उन्होंने छत्तीसगढ़ नगर के क्रिकेट क्लब के लिए खेल सामग्री खरीदने पांच हजार रूपये देने की घोषणा भी की। खेल मंत्री ने इस अवसर पर श्री चन्द्रशेखर चकोर की पुस्तक 'लोक खेल नियमावली-एक पुनरीक्षण'  का विमोचन किया।

       खेल मड़ई 2007 के उद्धाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए शहीद पंकज विक्रम वार्ड के पार्षद श्री सुभाष तिवारी ने अपने संबोधन में कहा कि श्री बृजमोहन अग्रवाल के पर्यटन, संस्कृति तथा खेल एवं युवा कल्याण मंत्री बनने के साथ ही छत्तीसगढ़ की कला, संस्कृति और खेलों के विकास को एक नई दिशा मिली है। आज राज्य के कलाकारों और खिलाड़ियों को प्रतिभा प्रदर्शन के लिए भरपूर मौका मिल रहा है। उद्धाटन समारोह का संचालन प्रोफेसर ऋषिराज पांडे ने किया। आभार प्रदर्शन रायपुर जिला लोक खेल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री घनश्याम वर्मा द्वारा किया गया। छत्तीसगढ़ खेल मड़ई 2007 में सरस्वती विद्या मंदिर छत्तीसगढ़ नगर रायपुर, भामाशाह हायर सेकण्डरी स्कूल छत्तीसगढ़ नगर रायपुर, शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला बोरियाखुर्द तथा शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला कांदुल के स्कूली बच्चे भाग ले रहे हैं।

       खेल मड़ई 2007 के उद्धाटन अवसर पर अनेक खेलप्रेमी, स्थानीय नागरिकगण तथा स्कूली बच्चे उपस्थित थे।

हिन्दी