चैत्र नवरात्रि

चैत्र नवरात्रि की षष्ठी महामाया मंदिर में पूजा

मुख्यमंत्री ने महामाया मंदिर में की पूजा-अर्चना - रायपुर 02 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रविवार रात यहां चैत्र नवरात्रि की षष्ठी के पावन अवसर पर पुरानी बस्ती स्थित मां महामाया मंदिर में उनकी पूजा-अर्चना कर प्रदेश की सुख-समृद्धि और खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती वीणा सिंह भी उनके साथ थी। 

मां कूष्माण्डा की पूजा चौथे दिन हुई

शक्ति माँ दुर्गा नवरात्री के चौथे स्वरूप में देवी कूष्मांडा के नाम से जानी जाती है। तीसरे दिन की नवरात्रि में देवी माँ कूष्माण्डा का पूजन संपन्न करने की विधि तय की गई है।

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखरां

चैत्र नवरात्र प्रथम दिवस नवरात्रि विशेष - मां नवदुर्गाओं में सबसे पहला नाम शैलपुत्री का है, जो गिरीराज हिमालय की पुत्री है। अपने पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष के यहां कन्या के रुप में उत्पन्न हुई थी। मां के दाहिने हाथ में शूल और बांए हाथ में कमल का फूल सुशोभित है। माता की शक्तियां अनन्त है। नवरात्र के पहले दिन भक्तगण इनकी आराधना करते हैं। एक बार प्रजापति दक्ष ने एक विशाल यज्ञ करवाया। उसमें सभी देवताओं को बुलाया लेकिन क्रोधवश शंकरजी को यज्ञ में नहीं बुलाया। सती तो जब पता चला कि पिताजी के यहां यज्ञ हो रहा है, तो उन्होंने वहां पर जाने की इच्छा जाहिर की। शंकर जी के काफी समझाने के बाद भी सती न