गोंडवाना समाज के कार्यक्रम में डॉ. रमन सिंह

शहीद वीरनारायण सिंह से मिली पीडीएस व्यवस्था के लिए प्रेरणा : डॉ. रमन सिंह : मुख्यमंत्री ने किया शहीद वीरनारायण सिंह की प्रतिमा का अनावरण
रायपुर, 04 जनवरी 2018 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज राजनांदगांव में गोंडवाना समाज के कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुझे पीडीएस व्यवस्था की प्रेरणा शहीद वीरनारायण सिंह से मिली। शहीद वीरनारायण सिंह ने लोगों को खाद्य सुरक्षा देने के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर शहीद वीरनारायण सिंह की प्रतिमा का अनावरण किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद वीरनारायण सिंह ने अतुलनीय शौर्य का परिचय दिया और 1857 की क्रांति में छŸाीसगढ़ का नाम देश के इतिहास में अमर कर दिया। उन्होंने कहा कि बस्तर से लेकर सरगुजा तक जनजातीय भाईयों की बेहतरी के लिए सरकार अनेक कदम उठा रही है। चाहे खाद्य सुरक्षा की बात हो, या शिक्षा की बात हो, हमेशा कोशिश होती है कि जनजातीय भाईयों को हरसंभव सुविधा मिल सके। उन्होंने कहा कि इस बार सरकार ने तेंदूपŸाा बोनस तिहार का आयोजन भी किया। इस साल तेंदूपŸाा संग्रहण की दर 2500 रुपए प्रति मानक बोरा कर दी गई है। शहीद वीरनारायण सिंह के आशीर्वाद से हम छŸाीसगढ़ में और भी बड़े कार्य कर पाने में सफल होंगे। इस मौके पर पूर्व संसदीय सचिव श्री सिद्धनाथ पैकरा ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की सरकार ने खाद्य सुरक्षा को इस तरह स्थापित किया कि देश भर में छŸाीसगढ़ मॉडल की प्रशंसा हो रही है। इसका सबसे ज्यादा लाभ जनजातीय भाइयों को हुआ है। पढ़ाई-लिखाई के क्षेत्र में भी सरकार बड़े काम कर रही है। सरगुजा से लेकर दंतेवाड़ा तक आदिवासी बच्चों की सफलता यह दिखाती है कि सरकार का शिक्षा पर किया जा रहा खर्च सार्थक हो रहा है।

महुआ का फूल पहले झर जाए तो क्या करें, इस पर रिसर्च-
    नगर निगम राजनांदगांव के महापौर श्री मधुसूदन यादव ने कहा कि महुआ का फूल कई बार पकने से पहले ही झर जाता है और यह लोगों के लिए उपयोगी नहीं रह जाता। सालों से हम और पीढ़ियों से हम सब ऐसा देखते आए हैं लेकिन इसके इस्तेमाल पर हमने गौर नहीं किया। अभी राजनांदगांव में एक ऐसे वैज्ञानिक आए हैं जो यह रिसर्च कर रहे हैं कि महुआ के बिना पके गिर गए फूल का क्या उपयोग किया जा सकता है। जब मैं उनसे मिला तो उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने उन्हें रिसर्च के लिए भेजा है। यह जानकर मुझे बड़ी खुशी हुई। इस प्रकार मुख्यमंत्री संवेदनशीलता से जनजातिय भाइयों की आय बढ़ाने, उनकी बेहतरी के कार्यों के लिए हमेशा चिंतन करते रहते हैं। कार्यक्रम को केंद्रीय गोंड समाज के अध्यक्ष श्री एमडी ठाकुर ने भी संबोधित किया। इस मौके पर 20 सूत्रीय क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष श्री खूबचंद पारख, राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री नीलू शर्मा, राज्य उर्दू अकादमी के अध्यक्ष श्री अकरम कुरैशी, समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी, नागरिक आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री लीलाराम भोजवानी, पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री अशोक शर्मा, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष श्री सचिन बघेल सहित अन्य जनप्रतिनिधि और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

हिन्दी