खाद-बीज पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध

रबी फसलों की 14 हजार मीटरिक टन बीज वितरित - कृषि उत्पादन आयुक्त द्वारा समीक्षा - रायपुर, 23 दिसम्बर 2008 छत्तीसगढ़ में रबी फसलों के लिये पर्याप्त मात्रा में खाद-बीज उपलब्ध है। छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ में 6 हजार मीटरिक टन डी.ए.पी.खाद उपलब्ध है। आगामी दो-तीन दिनों में साढ़े सात हजार मीटरिक टन डी.ए.पी. खाद और प्राप्त हो जाएगा। राज्य में गत वर्ष वितरित 28 हजार मीटरिक टन रबी फसलों के बीजों के विरूध्द अब तक 50 हजार मीटरिक टन रबी फसलों की बीज वितरित किये जा चुका है। जो लक्ष्य का डेढ़ गुना अधिक है। यह जानकारी आज यहां मंत्रालय में अपर मुख्य सचिव और कृषि उत्पादन आयुक्त श्री सरजियस मिंज की अध्यक्षता में आयोजित कृषि विभाग की साप्ताहिक समीक्षा बैठक में दी गई।

बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त श्री मिंज ने रबी मौसम के लिये जरूरत के मुताबिक खाद-बीज की वितरित करने के निर्देश दिये। श्री मिंज ने अधिकारियों से कहा कि उर्वरक उत्पादक कारखानों से जितनी मात्रा में डी.ए.पी., एम.ए.पी. एन.पी. के खाद मिले उसे प्राप्त कर आगामी खरीफ 2009 के लिये अभी से भण्डारण कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि दलहन-तिलहन की बीज उत्पादन बढ़ाने प्रयास होना चाहिए।

श्री मिंज ने कहा कि जिन क्षेत्रों से खाद-बीज की मांग आ रही है। वहां तुरंत भिजवाये। उन्होंने कहा कि खेती-किसानी के काम के लिये एक वार्षिक कैलेण्डर (शेडयूल) बना लिया जाए। इसमें वर्ष में खेती-किसानी से संबंधित कौन से काम कब किया जाना है। इस बात का उल्लेख होना चाहिए। शेडयूल में कृषि, उद्यानिकी, बीज निगम, छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ के काम शामिल रहेगा। इन सभी विभागों में समन्वय होना चाहिए। श्री मिंज ने कृषि और उद्यानिकी विभाग के संचालकों को सूक्ष्म सिंचाई योजना के शेष अधूरे कार्यों को शीघ्र पूरा करने कृषि और उद्यानिकी विभाग के क्षेत्रीय अधिकारियों को लिखित निर्देश देने के निर्देश दिये।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश में रबी फसलों की बोनी के निर्धारित लक्ष्य 18 लाख हेक्टेयर के विरूध्द अब तक 12 लाख 26 हजार हेक्टेयर में बोनी हो चुकी हैं जो लक्ष्य का 68 प्रतिशत है। दो-तीन दिनों में साढ़े सात हजार मीटरिक टन डी.ए.पी. प्राप्त होगा जिसे रायगढ़, जांजगीर-चांपा, दुर्ग, कवर्धा, कांकेर और धमतरी जिले में वितरित किया जाएगा। राज्य शासन द्वारा उर्वरक व्यवस्था के लिये छत्तीसगढ़ राज्य विपणन सहकारी संघ को 100 करोड़ का बैंक प्रतिभूति, (बैंक गारंटी) 30 करोड़ रूपये ब्याज मुक्त ऋण के अलावा उर्वरकों का परिवहन ऋण की ब्याज अदायगी आदि के लिये साढे आठ करोड़. रूपये उपलब्ध कराया गया है। बतया गया कि बीज उत्पादन कार्यक्रम के तहत दो लाख मीटरिक टन धान और 35 हजार मीटरिक टन सोयाबीन बीज प्राप्त कर लिया गया है। बैठक में कृषि सचिव श्री अवध बिहारी, संचालक श्री प्रताप कृदत्त सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
Topics Tags Chhattisgarh Seed, Chhattisgarh Fertiliser, Chhattisgarh Rabi

हिन्दी