केमिकल पेन्ट फैक्ट्री अग्निकांड पर कड़ी सरकारी कार्यवाही

मुख्यमंत्री ने केमिकल फैक्ट्री में हुए हादसे को गंभीरता से लिया, दुर्घटना की दण्डाधिकारी जांच के निर्देश जारी 

राजधानी के औद्योगिक इलाकों में रसायन फैक्ट्रियों की छापामार शैली में जांच शुरू, पहले दिन चार फैक्ट्रियों को बंद करने का आदेश

रायपुर, 16 मई 2017 -  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राजधानी रायपुर के भनपुरी इलाके में कल एक केमिकल (पेन्ट) फैक्ट्री में हुए विस्फोट में तीन लोगों की मृत्यु पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुए मामले को गंभीरता से लिया है। उनके निर्देश पर घटना की दण्डाधिकारी जांच का निर्णय लिया गया है और छापामार शैली में इस प्रकार के सभी रसायन उद्योगों की जांच भी शुरू कर दी गई है। 

कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री ओ.पी.चौधरी ने कल हुई इस औद्योगिक दुर्घटना की दण्डाधिकारी जांच का आदेश आज यहां जारी कर दिया। जिला दण्डाधिकारी ने डिप्टी कलेक्टर सुश्री शीतल बंसल को जांच अधिकारी नियुक्त किया है। जांच अधिकारी द्वारा फैक्टरी में विस्फोट के कारणों तथा सुरक्षा उपायों की सहित अन्य पहलुओं की विस्तृत जांच की जाएगी। इस बीच औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा, उद्योग, पर्यावरण तथा राजस्व विभाग की संयुक्त टीम द्वारा कलेक्टर के निर्देश पर शहर में केमिकल बनाने वाली चार विभिन्न फैक्ट्रियों की छापामार शैली में जांच की गई और उन्हें बंद करने का आदेश भी जारी किया गया। टीम ने राजधानी के भनपुरी इलाके में योगेश पेंट की जांच की जहां उन्होंने इसके निर्माण के संबंध में न तो कोई दस्तावेज प्रस्तुत किए और न ही यहां किसी भी प्रकार के अग्नि सुरक्षा उपकरण, सुव्यवस्थित एन्ट्री व एक्जिट की व्यवस्था पायी गई। 
अधिकारियों ने बताया कि टीम ने यहां से 13 ड्रम केमिकल और 30 ड्रम पेंट जप्त कर लिया। पर्यावरण विभाग द्वारा संबंधी फर्म को तत्काल काम बंद करने का आदेश जारी कर चस्पा कर दिया। इसी तरह भनपुरी स्थित ऋषि टेªडर्स, कबासी एसिड एण्ड केमिकल तथा केमलाईट फर्म द्वारा आयल एवं ग्रीस की पैकिंग सहित अन्य केमिकल का कार्य किया जा रहा था, इनकी जांच के दौरान भी इन्होंने किसी भी तरह के दस्तावेज नही प्रस्तुत किए और यहां भी अग्नि सुरक्षा और पर्यावरण के मानकों का पालन नही किया जा रहा था। पर्यावरण विभाग द्वारा चारों फैक्ट्रियों को तत्काल बंद करने का आदेश दिया गया। अपर कलेक्टर श्री डोमन सिंह ने बताया कि शहर में संयुक्त टीम द्वारा लगातार आकस्मिक जांच की कार्यवाही जारी है तथा नियम विरूद्ध संचालन करते पाए जाने पर संबंधितों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। 

हिन्दी