कवर्धा में राज्योत्सव का शुभारंभ

विकास की गाथा लिख रहा है छत्तीसगढ़ : श्री मूणत, कबीरधाम जिले में तीन दिवसीय राज्योत्सव का शुभारंभ

रायपुर, 03 नवम्बर 2011 - नगरीय प्रशासन मंत्री श्री राजेश मूणत ने कहा है कि छत्तीसगढ़ ने नये राज्य के रूप में बहुत ही कम समय में विकास की नई गाथा लिखी है। शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, सिंचाई, बिजली और नगरीय विकास के मामले में राज्य ने पूरे देश में अपनी अलग पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ नये राज्यों के लिए विकास का रोल मॉडल बनकर उभरा है। श्री मूणत ने कल बुधवार को कबीरधाम जिले में आयोजित तीन दिवसीय राज्योत्सव का उद्धाटन किया। उन्होंने राज्योत्सव में आयोजित विकास प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। इस अवसर पर संसदीय सचिव डॉ. सियाराम साहू, छत्तीसगढ़ युवा आयोग के अध्यक्ष श्री संतोष पाण्डेय और जिला पंचायत कबीरधाम के अध्यक्ष श्री विदेशीराम धुर्वे भी उपस्थित थे।
    छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना की 11वीं वर्षगांठ के अवसर पर श्री मूणत ने कहा कि राज्य निर्माण के समय छत्तीसगढ़ का बजट सात हजार करोड़ रूपए था, जो आज बढ़कर 32 हजार करोड़ रूपए हो गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ऊर्जावान नेतृत्व में छत्तीसगढ़ का तेजी से विकास हुआ है और आज गांव की गलियों से लेकर शहरों की कालोनियों तक विकास की झलक दिखाई दे रही है। प्रदेश के विकास में किसानों, मजदूरों, नवजवानों सहित सभी नागरिकों का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि राज्योत्सव के माध्यम से शासकीय योजनाओं और हासिल उपलब्धियों की जानकारी आम जनता तक पहुंचती है।
    संसदीय सचिव डॉ. सियाराम साहू ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा संचालित विकास योजनाएं देश के अन्य राज्यों के लिए मिसाल बनकर उभरी हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के बजट का ज्यादातर हिस्सा लोक कल्याणकारी योजनाओं पर खर्च हो रहा है। युवा आयोग के अध्यक्ष श्री संतोष पाण्डेय ने इस मौके पर कहा कि राज्य गठन के बाद यहां के संसाधनों का उपयोग स्थानीय लोगों के हित में हो रहा है। उन्होंने कबीरधाम जिले में सिंचाई के क्षेत्र में हुई प्रगति का उल्लेख करते हुए कहा कि सुतियापाट और कर्रा नाला सिंचाई परियोजनाओं के बनने से जिले में सिंचित रकबे में उल्लेखनीय वृध्दि हुई है और किसानों को इसका भरपूर लाभ मिला है। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ संस्कृत बोर्ड के अध्यक्ष श्री गणेश कौशिक, नगरीय प्रशासन विभाग के आयुक्त श्री संजय शुक्ला सहित जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक उपस्थित थे।

हिन्दी