कबीरधाम जिले में योजनाओं की विस्तृत समीक्षा

लोक सुराज : मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक : गर्मियों में पेयजल व्यवस्था का विशेष ध्यान रखने के निर्देश

मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए सजग रहे स्वास्थ्य विभाग: डॉ. रमन सिंह

रायपुर, 03 मई 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान के तहत आज शाम जिला मुख्यालय कवर्धा में आयोजित बैठक में कबीरधाम जिले में चल रही विभिन्न योजनाओं की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने पेयजल की दृष्टि से जिले के समस्यामूलक 75 गांवों का उल्लेख करते हुए कहा कि इन गांवों के लिए विशेष कार्य योजना बनाने की जरूरत है। डॉ. सिंह ने ऐसे समस्यामूलक गांवों में पानी पहुंचाने के लिए आवश्यक होने पर नल-जल योजना वाले गांवों से पाईप लाईन खीचकर भी पेयजल की व्यवस्था की जाए।   
उन्होंने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को पंचायतों से समन्वय कर हैण्डपम्पों का बेहतर रख-रखाव सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने गर्मी के मौसम को ध्यान में रखकर स्वास्थ्य विभाग को संक्रामक बीमारियों की समय-पूर्व रोकथाम के लिए सजग रहने के लिए कहा। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सभी गांवों और शहरों में सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ मितानिनों के पास भी उल्टी-दस्त और अन्य संक्रामक रोगों के त्वरित इलाज के लिए जीवनरक्षक औषधियों का स्टाक पर्याप्त मात्रा में रखा जाए। 
डॉ. सिंह ने नगरीय निकायों और ग्राम पंचायतों के जरिए स्थानीय कुओं और हैण्डपम्पों में जल शुद्धिकरण की जरूरत पर भी बल दिया। उन्होंने कौशल उन्नयन योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि राज्य में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत छह लाख से ज्यादा मकान बनवाए जा रहे हैं। इसके अलावा हाउसिंग सेक्टर में काफी गतिविधियां चल रही हैं, जिन्हें देखते हुए प्रशिक्षित राजमिस्त्रियों की जरूरत महसूस की जा रही है। कौशल उन्नयन योजना के तहत युवाओं को राजमिस्त्री का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। इससे उन्हें रोजगार की कमी नहीं होगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि दिव्यांगजनों के कौशल उन्नयन पर भी विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत है। सौर सुजला योजना की समीक्षा के दौरान बैठक में बताया गया कि जिले में अब तक 396 किसानों के खेतों में सोलर पम्प लगाए जा चुके हैं। मनरेगा के तहत ढाई हजार कुंओं और डबरियों का निर्माण किया जा चुका है। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत कबीरधाम जिले में एक लाख 20 हजार परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन देने का कार्य प्रगति पर है। डॉ. रमन सिंह ने ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को जिले के बिजली विहीन मजरों-टोलों में इस वर्ष दिसम्बर माह तक बिजली पहुंचाने के निर्देश दिए। डॉ. सिंह ने स्कूल शिक्षा, आदिम जाति विकास और राजस्व विभाग के अधिकारियों को स्कूली छात्र-छात्राओं के जाति प्रमाण पत्र उनके स्कूल छोड़ने के पहले ही बनवाने और वितरित करने के निर्देश दिए। 
बैठक में लोक निर्माण, आवास और पर्यावरण मंत्री श्री राजेश मूणत, संसदीय सचिव श्री मोतीराम चंद्रवंशी, लोक सभा सांसद श्री अभिषेक सिंह, विधायक श्री अशोक साहू, मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड, जल संसाधन विभाग के सचिव श्री गणेश शंकर मिश्रा और प्रशासन के अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।  

हिन्दी