ऑडिटोरियम बनेगा डॉ. राधाबाई नवीन कन्या महाविद्यालय में

डॉ. राधाबाई नवीन कन्या महाविद्यालय की छात्राओं को मिली प्रेक्षागृह और आठ कमरों की सौगात : उच्च शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय तथा कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने किया लोकार्पण
रायपुर, 11 मार्च 2018 - राजधानी रायपुर के डॉक्टर राधाबाई नवीन कन्या महाविद्यालय की छात्राओं को नये प्रेक्षागृह और आठ नये कमरों की सौगात मिली। उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय तथा कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने महाविद्यालय में 90 लाख रूपए की लागत से निर्मित प्रेक्षागृह का लोकार्पण किया। उन्होंने रूसा के तहत लगभग एक करोड़ रूपए की लागत से बनाए गए आठ कमरों का लोकार्पण भी किया। महाविद्यालय में आज साईंस एण्ड टेक्नोलॉजी फार हारनेसिंग नेचुरल रिसोर्सेस डुवर्डस सस्टेनेबल डव्हलमेंट विषय पर एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला आयोजित की गई। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. अरूणा पल्टा के मार्गदर्शन में आयोजित इस कार्यशाला में लगभग 200 प्रतिभागियों ने वाटर हार्वेस्टिंग, आर्गेनिक फार्मिंग और सोलर एनर्जी के महत्व पर अपने विचार रखे। इस अवसर पर पोस्टर प्रदर्शनी भी आयोजित की गई। कार्यक्रम में मंत्रियों ने पोस्टर प्रदर्शनी के विजेताओं को पुरस्कृत किया।

    इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय तथा कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने वाटर हार्वेस्टिंग, आर्गेनिक फार्मिंग और सोलर एनर्जी की उपयोगिता पर विशेष रूप से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि कार्यशाला के लिए निर्धारित तीनों विषय आज के समय में बेहद महत्वपूर्ण है। इन तीनों मुद्दों पर आम लोगों में जागरूकता लाना जरूरी है। इस कार्य में पढ़े-लिखे लोंगों को विशेष रूप से प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि आर्थिक रूप से मध्यम और गरीब वर्ग परिवारों के लिए डॉ. राधाबाई कन्या महाविद्यालय एक वरदान के समान हैं। मठपारा और आस-पास के अन्य इलाकों के निवासियों की बच्चियों को उच्च शिक्षा देने में यह महाविद्यालय सक्षम साबित हुआ है। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. पल्टा ने स्वागत उद्बोधन में महाविद्यालय की विकास यात्रा की विस्तार से चर्चा की। उन्होंने महाविद्यालय की छात्राओं के लिए छात्रावास भवन और खेल मैदान की जरूरत बताते हुए इस ओर मंत्रियों का ध्यान आकृष्ट कराया।
    राज्य स्तरीय कार्यशाला के शुभारंभ समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. के. सुब्रमणियम निदेशक छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद ने वर्तमान में ऊर्जा के परम्परागत और गैर परम्परागत स्त्रोतों के विकास के लिए नई तकनीक अपनाने की आवश्यकता बतायी। डॉ. आर.के. बाजपेयी प्रोफेसर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय ने जैविक खेती विषय पर अपनी बात रखते हुए कहा कि प्राकृतिक संसाधनों के सदुपयोग से ही प्रकृति का संतुलन बना रहेगा। जिला प्रभारी क्रेडा रायपुर डॉ. वैभव दुबे ने हारनेसिंग सोलर एनर्जी तथा भिलाई स्टील प्लांट के वरिष्ठ प्रबंधक श्री आर.पी. देवांगन ने रेन वाटर हार्वेस्टिंग पर अपने विचार रखे।
    इस अवसर पर कार्यशाला के निर्धारित तीनों विषयों पर पोस्टर प्रदर्शनी लगाई गई। पोस्टर प्रदर्शनी में कुमारी शबनम खातून शासकीय दूधाधारी बजरंग कन्या महाविद्यालय ने प्रथम, डॉ. कविता शर्मा शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय देवेन्द्र नगर ने द्वितीय तथा डॉ. अनुभा झा शासकीय दूधाधारी बजरंग कन्या महाविद्यालय ने तृतीय पुरस्कार जीता। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पाण्डेय तथा कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने उन्हें पुरस्कृत किया। कार्यक्रम का संयोजन विभागाध्यक्ष डॉ. विनोद कुमार जोशी तथा संचालन प्राध्यापक अर्थशास्त्र डॉ. प्रीता लाल ने किया।

हिन्दी