ऋण

कैसे पाएं प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम 2017 में ऋण?

25 लाख रूपए तक उधार पाएं, ऑनलाईन आवेदन सुविधा है प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम में, आवेदन की अंतिम तिथि 31 जुलाई

रायपुर, 28 जुलाई 2017 - प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम वित्तीय वर्ष 2017-18 अन्तर्गत  स्वयं का व्यवसाय स्थापित कर रोजगार सृजन करने के लिए ऑनलाईन आवेदन 31 जुलाई तक किये जा सकेंगे। इसके लिए www.kviconline.gov.in के pmegp e-portal में जाकर आवेदन किया जा सकता है। इस योजना के तहत विनिर्माण उद्यम हेतु अधिकतम परियोजना लागत 25 लाख रूपए एवं सेवा उद्योग हेतु अधिकतम परियोजना लागत 10 लाख रूपए तक के ऋण स्वीकृत किये जायेंगे।

तीन प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर बारह करोड़ बांटे

रबी फसलों के लिए अब तक बारह करोड़ रूपए से ज्यादा ऋण वितरित
रायपुर, 17 नवम्बर 2011 - चालू रबी मौसम में छत्तीसगढ़ के किसानों को खेती के लिए मात्र तीन प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर बारह करोड़ रूपए से अधिक का ऋण उपलब्ध कराया जा चुका है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश की एक हजार 333 प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के माध्यम से राज्य के किसान सिर्फ तीन प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर खेती के लिए खाद और बीज के साथ-साथ नगद राशि भी ऋण के रूप में प्राप्त कर रहे हैं।

एक लाख रुपए का ऋण मिनी माता स्वावलम्बन योजना

छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जातियों के बेरोजगार युवाओं को स्वरोजगार के लिए छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम द्वारा संचालित मिनी माता स्वावलम्बन योजना के अंतर्गत एक लाख रुपए का ऋण प्रदान किया जा रहा है। प्रदेश के जांजगीर-चाम्पा जिले में मिनी माता स्वावलम्बन योजना के अंतर्गत अनुसूचित जातियों के 28 हितग्राहियों को स्वरोजगार के लिए कुल 15 लाख 64 हजार रूपए का ऋण उपलब्ध कराया गया है। छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम को इस योजना के लिए वित्तीय आवंटन अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध कराया जाता है।

252 शिक्षित बेरोजगारों को 1.83 करोड़ से अधिक राशि मंजूर

प्रधानमंत्री रोजगार योजना के अंतर्गत कबीरधाम जिले में लक्ष्य से अधिक प्रकरण स्वीकृत किए गए हैं। इस योजना के अंतर्गत जिले में वित्तीय वर्ष 2007-08 में 250 शिक्षित बेरोजगारों को स्वरोजगार के लिए बैंकों के माध्यम से ऋण सहायता उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसके विरूध्द माह फरवरी 2008 तक शिक्षित बेरोजगारों के 252 ऋण प्रकरणों में विभिन्न बैंकों द्वारा एक करोड़ 83 लाख 12 हजार रूपए की राशि स्वीकृत की गई।