आदरांजली

तूफान में जलता एक दिया - माइकल जैक्सन

जैको अमर हो गए। जिन्दगी के कितने रंग है बताना ही मुश्किल है पर शमा को तो हर रंग में जलना ही पड़ता है सहर होने तक। किसी-किसी की जिंदगी में हम आश्चर्यजनक परिस्थितियाँ, कभी स्वर्ग के नजारे कभी अथाह पीड़ा का लहराता सागर उमड़ता देखते हैं। आज माइकल जैक्‍सन का अंतिम संस्‍कार सभी को बहुत रूला रहा है।

माइकल जैक्सन का जीवन सफलता की बुलंदियों और विफलताओं, विवादों की कँटीली झाड़ी के समान था। माइकल जैक्सन बचपन से पिता के कड़े बर्ताव से उसका मन, अनेक कुंठाओं की जन्म स्थली बन गया जिससे माइकल जैक्सन कभी उबर नहीं पाया पर तमाम तूफानों के बावजूद नृत्य संगीत के रूप में सरस्वती सदा उसकी अंगुली थामे रही।