अम्बेडकर जयंती

पद्मश्री गोविंद राम निर्मलकर आडिटोरियम अम्बेडकर जयंती

कमजोर वर्गों के उत्थान में बाबा साहब का योगदान अविस्मरणीय: डॉ. रमन सिंह, मुख्यमंत्री शामिल हुए अम्बेडकर जयंती के राज्य स्तरीय समारोह में 
डोंगरगढ़ में बाबा साहब की धातु निर्मित आदमकद प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा
राजनांदगांव के अम्बेडकर सांस्कृतिक भवन को पूरा करने 20 लाख रुपए की मंजूरी
छत्तीसगढ़ राज्य अल्पसंख्यक आयोग में बौद्ध समाज को भी मिलेगा प्रतिनिधित्व 
मुख्यमंत्री ने किया विभिन्न क्षेत्रों की प्रतिभाओं का सम्मान 

राजनांदगांव में डिजीधन स्व-सहायता प्रदर्शनी

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज भारतीय संविधान के महान शिल्पी डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर राजनांदगांव में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह और डिजीधन मेले में स्व-सहायता समूहों द्वारा निर्मित वस्तुओं की प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया

राजनांदगांव, रायपुर, 14 अप्रैल 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज भारतीय संविधान के महान शिल्पी डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर राजनांदगांव में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह और डिजीधन मेले में स्व-सहायता समूहों द्वारा निर्मित वस्तुओं की प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। 

ऑडिटोरियम में आयोजित डॉ. भीमराव अम्बेडकर जयंती

मुख्यमंत्री आज अम्बेडकर जयंती समारोह में शामिल होंगे : डिजी धन मेले में पुरस्कार वितरित करेंगे

13/04/2017
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री करेंगे संबोधित

रायपुर, 13 अप्रैल 2017 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कल 14 अप्रैल को राजनांदगांव में संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती के अवसर पर सवेरे 11 बजे आयोजित राज्य स्तरीय समारोह एवं डिजी धन मेले में शामिल होंगे। समारोह की अध्यक्षता आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप करेंगे।

राजस्‍थान के श्री राजावत की शुभकामनाएं

जयपुर, संसदीय सचिव एवं सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के प्रभारी श्री भवानी सिंह राजावत ने रामनवमी एवं अम्बेडकर जयन्ती के अवसर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।

उन्होंने कहा कि बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर ने जीवनपर्यन्त समाज के दलित व पिछड़े वर्ग के उत्थान के लिए कार्य किए। उन्होंने कहा कि बाबा साहब के आदर्शों का पालन करते हुए हमें प्रदेश के विकास में भागीदार बनना चाहिए।

श्री राजावत ने रामनवमी पर्व पर अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें भगवान श्रीराम के आदर्शों को जीवन में आत्मसात करने की प्रेरणा लेनी चाहिए।

राजस्‍थान विधानसभा अध्यक्ष की शुभकामनाएं

जयपुर, विधानसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा सिंह ने अम्बेडकर जयन्ती एवं रामनवमी पर प्रदेशवासियों को अपनी हार्दिक शुभकामनाए दी हैं।

श्रीमती सिंह ने अपने संदेश में कहा कि डॉ भीमराव अम्बेडकर जीवन पर्यन्त समाज के पिछड़े एवं दलित वर्ग के उत्थान के लिए काम करते रहे। हम सभी को उनके बताये आदर्शों एवं सिद्धान्तों पर चल कर देश के विकास में सक्रिय भागीदारी निभानी चाहिए।

विधानसभा उपाध्यक्ष श्री रामनारायण विश्नोई तथा सरकारी मुख्य सचेतक श्री महावीर प्रसाद जैन ने भी अम्बेडकर जयन्ती तथा रामनवमी पर प्रदेशवासियों को अपनी शुभकामनाएं दी।

अम्बेडकर जयंती पर छत्तीसगढ़ राज्यपाल की शुभकामनाएं

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री ई.एस.एल. नरसिम्हन ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर जयंती पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है।

अपने संदेश में राज्यपाल श्री नरसिम्हन ने कहा है कि भारतीय संविधान की रचना में बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के योगदान को सदैव याद किया जायेगा। डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय समाज में समता लाने, भेदभाव एवं छुआछूत जैसी सामाजिक बुराईयों को दूर करने उल्लेखनीय योगदान दिया। श्री नरसिम्हन ने आशा प्रकट करते हुए कहा कि डॉ. अम्बेडकर द्वारा स्थापित मार्गदर्शी सिध्दांत सदैव प्रेरणा स्त्रोत रहेंगे।

अम्बेडकर जयन्ती पर राजस्‍थान के मुख्यमंत्री की शुभकामनाएं

जयपुर, मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर की जयन्ती के अवसर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं।

श्रीमती राजे ने अपने संदेश में कहा है कि भारत के संविधान निर्माता डॉ अम्बेडकर ने सारा जीवन दलितों के उद्धार में लगा दिया। उनका सम्पूर्ण जीवन मानव सेवा के लिए समर्पित रहा। अछूतों के कल्याण एवं नारी उत्थान के लिए उन्होंने हर संभव प्रयास किये। उन्होंने सामाजिक न्याय से वंचित लोगों को अपने अधिकारों के प्रति सचेत किया।

मुख्यमंत्री ने रामनवमीं और अम्बेडकर जयंती पर जनता को शुभकामनाएं दी

छत्‍तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रामनवमीं और डॉ. भीमराव अम्बेडकर जयंती के अवसर पर जनता को अपनी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। डॉ. सिंह ने अपने शुभकामना संदेश में मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव 'राम नवमीं' का उल्लेख करते हुए कहा है कि प्रभु श्रीराम का जीवनदर्शन सम्पूर्ण मानवता के लिए कल्याणकारी है। वे सम्पूर्ण भारत वर्ष की जनता के आराध्य हैं।

पौराणिक तथ्यों के अनुसार माता कौशल्या का मायका छत्तीसगढ़ में होने के कारण यहां की जनता और प्रभु श्रीराम के बीच मामा-भांचा का भावनात्मक रिश्ता भी सदियों से बना हुआ है।