सांसदों की बैठक मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में

दलगत राजनीति से उपर उठकर संसद में उठाये जायेंगे छत्तीसगढ़ के हित से जुड़े मुद्दे
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में सांसदों की बैठक में बनी सहमति

छत्तीसगढ़ रायपुर, 07 जुलाई 2009 - छत्तीसगढ़ के हित से जुड़े विषयों में राजनैतिक प्रतिबद्वता से उपर उठकर सामूहिक रूप से संसद में मुद्दे उठाये जायेंगे। यह सहमति कल रात नई दिल्ली में मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह की अध्यक्षता में छत्तीसगढ़ सदन में आयोजित राज्य के लोकसभा और राज्यसभा सांसदों की एक बैठक में एकमत से बनी।

चाऊंर वाले बाबा से गरीबों को राहत की उम्मीद

छत्‍तीसगढ़ रायपुर, 07 जुलाई 2009 - प्रदेश के गरीबों के लिए 8 जुलाई से नए स्वरूप में शुरू हो रही मुख्यमंत्री खाद्यान सहायता योजना का शहरी गरीबों को भी बेसब्री से इंतजार है।

शहर के झुग्गी बस्तियों में रह रहे श्री श्याम तांडी, श्री श्याम लाल सोना, श्रीमती इंदु बघेल, श्रीमती गनेशिया बाई जैसे दर्जनों लोगों ने आज बातचीत के दौरान बताया कि उन्हें आठ जुलाई का इंतजार है, जब गरीबों को तीन रूपए के बजाय दो रूपए किलो चावंल मिलेगा। उन्होंने कहा कि चाऊंर वाले बाबा ने गरीबों को सस्ता चावल देकर पुण्य का काम किया है, नमक भी अब मुफ्त मिलेगा, इससे उनके खाने का स्वाद बढ़ जाएगा।

चांउर वाले बाबा के चावल सहारा

मेरे राशन कार्ड पर भी लगी एक रूपए की मुहर - रायपुर जिले के धरसींवा विकासखण्ड स्थित ग्राम पंचायत मांढर निवासी अंत्योदय अन्न योजना के हितग्राही 70 वर्षीय श्री पुनऊराम ने इस योजना की जानकारी मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें अब एक रुपए किलो की दर से हर माह 35 किलो चावल मिलेगा। मेरे कार्ड में एक रुपए किलो चावल योजना की मुहर लग गई है। यह कहते हुए उन्होंने उत्साह के साथ अपना राशन कार्ड भी दिखाया। श्री पुनऊराम ने यह भी बताया कि उन्हें राष्ट्रीय वृध्दावस्था पेंशन योजना के तहत हर माह ग्राम पंचायत कार्यालय से तीन सौ रुपए पेंशन भी मिलती है।

घर खर्च चलाना अब नहीं मुश्किल: चांवल

राज्य के औद्योगिक शहर कोरबा के नगर निगम क्षेत्र में पथर्रीपारा वार्ड के बेहद गरीब महिला 45 वर्षीय श्रीमती हेमबाई गभेल ने बताया कि सिर्फ रोजी-मजदूरी के भरोसे अपने चार सदस्यीय परिवार का पालन पोषण बहुत कठिन था, किंतु मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना ने उनकी इस समस्या का काफी हद तक समाधान कर दिया है।

गरीब मन बर दो रुपिया किलो में चांऊर

चावल इतना सस्ता - मिला खुशहाल जीवन का रस्ता

मुख्यमंत्री के गृह जिले कबीरधाम (कवर्धा) में भी एक रूपए और दो रूपए किलो चावल और नि:शुल्क नमक की योजनाओं को लेकर लोगों में उत्साहजनक प्रतिक्रिया है। जिला मुख्यालय कवर्धा से लगभग 60 किलोमीटर पर हरे-भरे जंगलों में बसे बैगा आदिवासी बहुल ग्राम लूप निवासी इतवारी राम धुर्वे कहते हैं - 'हमर छत्तीसगढ के डॉ रमन के सरकार हर हमन ल पालत पोंसत हावय, जेकर खातिर हम गरीब मन बर दो रुपिया किलो में चांऊर देवत हे।

रोजगार और सस्ता चावल

हम गांव क्यों छोड़ें ? - विकासखण्ड लोरमी के ग्राम गुनापुर के प्रमादी व सुरेश दोनो कहते हैं कि पहले मजदूरी के लिये उन्हें जिले से बाहर जाना पड़ता था। क्योंकि उन्हें अपना व बच्चों का पेट पालना पहले मुश्किल था। परन्तु राज्य सरकार ने हमारे गांव में रोजगार गारंटी के कार्य खोले और सस्ते चावल की व्यवस्था की है तो हम रोजी-रोटी के लिए गांव छोड़कर दूर क्यों जाएं ?

खुशी से वे कहते हैं कि अब तो सरकार उन्हें बच्चों की तरह पाल रही है। जुलाई माह से वे दो रुपये किलो में चावल खरीदेंगे। बिलासपुर जिले के ग्राम लगरा की बरमतबाई कहती हैं कि डॉ. रमन सिंह ने गरीबों का ख्याल रखा है।

सरगुजा विश्वविद्यालय भवन का शिलान्यास

मुख्यमंत्री 8 जुलाई को करेंगे सरगुजा विश्वविद्यालय भवन का शिलान्यास
सरगुजा संभाग के 41 कॉलेज रहेंगे इस विश्वविद्यालय से सम्बध्द
रायपुर, 07 जुलाई 2009 - मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह कल बुधवार, 08 जुलाई को राज्य के आदिवासी बहुल सरगुजा संभाग के मुख्यालय अम्बिकापुर में हाल ही में स्थापित सरगुजा विश्वविद्यालय के लिए 220 एकड़ के रकबे में बनने वाले विशाल भवन परिसर के निर्माण कार्य का भूमिपूजन कर शिलान्यास करेंगे।

कर्नाटक खाद्य मंत्री छत्तीसगढ़ में

पारदर्शिता छत्तीसगढ़ की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की सबसे बड़ी विशेषता
श्री पुन्नूलाल मोहले अगले माह जाएंगे कर्नाटक
छत्तीसगढ़ रायपुर, 07 जुलाई 2009 - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से आज रात यहां उनके निवास पर सौजन्य मुलाकात के दौरान कर्नाटक के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री एच. हलप्पा ने छत्तीसगढ़ की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की जमकर तारीफ की। श्री हलप्पा ने डॉ. रमन सिंह के इन विचारों से सहमति जताई कि पारदर्शिता छत्तीसगढ़ सरकार की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की सबसे बड़ी विशेषता है।

चाउंर वाले बाबा डॉ. रमन सिंह:तीन रूपए किलो चावल

चाउंर वाले बाबा डॉ. रमन सिंह - राज्य सरकार की इन ऐतिहासिक योजनाओं को लेकर प्रदेश के गरीबों में काफी उत्साह और उत्सुकता है। जांजगीर-चाम्पा जिले के विकासखण्ड नवागढ़ स्थित ग्राम पेण्ड्री निवासी अनुसूचित जाति के 65वर्षीय बुजुर्ग श्री बैजूराम और उसी गांव के श्री मोहन लाल की पत्नी श्रीमती राजकुमारी चौहान अन्त्योदय श्रेणी के राशन कार्ड धारक परिवारों के सदस्य हैं।

भोजन अधिकार धरातल पर साकार

चावल उत्सव - छत्तीसगढ़ के लगभग 37 लाख गरीब परिवारों को आठ जुलाई की उस सुबह का बड़ी बेताबी से इन्तजार है, जब सूरज की पहली किरण उनके लिए देश के अन्य सभी राज्यों के मुकाबले सबसे कम कीमत पर चावल और नि:शुल्क नमक मिलने का पैगाम लेकर आएगी। इस दिन राज्य की दस हजार 455 उचित मूल्य दुकानों में 'चावल उत्सव' एक साथ मनाया जाएगा।